Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Nov 2018 · 2 min read

साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि की याद में लिखी गई एक कविता “ओमप्रकाश”

30 जून 1950 को
मुज़फ्फरनगर के गाँव बरला में
पैदा होते ही बन गया था
मैं एक विशेष वर्ग का बालक
लग गया था ठप्पा मुझपे चुहड़े और चमार का।
पढ़ने भेजा गया मुझे भी स्कूल
यहीं की थी मेरे पिता छोटन ने
व्यवस्था के खिलाफ एक भूल
जब तुमने मेरी इच्छाओं को दबाया था
हेड मास्टर साहब।
मैंने भी कर लिया था प्रण तभी से ये कि
मैं दिखलाऊंगा तुम्हें
तुमसे बड़ा बन कर।
मेरी माँ ने जूठन को ठुकराकर
दिया था मुझे वो साहस
जिसे मैं बन पाया
बालक मुंशी से ओमप्रकाश।

मैंने जैसा जीवन जिया उकेरा उसे
शब्दों में ‘जूठन’ के रूप में
होकर अनुवादित नौ से ज्यादा
देशी व विदेशी भाषाओं में
‘जूठन’ ने फैलाया समूचे विश्व में
दलित साहित्य का प्रकाश
मैं हूँ सफाई कर्मचारियों की समस्याओं
पर ‘सफाई देवता’ लिखने वाला ओमप्रकाश।

आज मेरी रचनाओं ने खींच दी हैं
उनके सामने एक बड़ी लकीर।
पढ़ते है उनके बच्चे भी
उनके पुरखों के द्वारा किये गए
अमानवीय व्यवहार की कहानियां
मेरी किताबों में,
विश्विद्यालय के पाठ्यक्रम में
होने को परीक्षा में अच्छे अंको से पास
मैं हूँ दलित साहित्य का महानायक ओमप्रकाश।

‘बस्स ! बहुत हो चुका’, ‘अब और नही’
सहेंगे हम ‘सदियों का सन्ताप’
मेरी रचना ‘ठाकुर का कुँआ’ ने कर दिया
भारतीय ग्रामीण व्यवस्था का पर्दाफाश
मैं हूँ ‘घुसपैठिये’ और ‘दलित साहित्य का सौन्दर्यशास्त्र’
रचने वाला ओमप्रकाश।

मेरी देह 17 नवम्बर 2013 को
छोड़कर चली गयी यह संसार
मगर मेरे बच्चे ‘नरेन्द्र’
तुम व्यर्थ मत जाने देना
मेरा साहित्य रूपी भंडार
जाओ घर-घर फैलाओ इस साहित्य रूपी ज्ञानपुंज को
बदलो उनके जीवन को जो जी रहे हैं,
जीवन अभी तक बेकार
एक बार यदि बाबा के विचारों को पढ़ गये वे लोग
तो कोई भी कुरीति न फ़टकेगी उनके पास
मैं हूँ दलितों में ऊर्जा भरने वाला ओमप्रकाश।

कितनी भी कर लो तुम कोशिशें
ऐ मनुवादियों
हटा दो मेरी भावनाओं को शिक्षालयों से
कभी न कर पाओगे तुम मेरे विचारों की लाश
मेरी साहित्यिक जाग्रति ने पैदा कर दिए है
असंख्य ओमप्रकाश।

1 Like · 4 Comments · 568 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्याम अपना मान तुझे,
श्याम अपना मान तुझे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
तुम मत खुरेचना प्यार में ,पत्थरों और वृक्षों के सीने
श्याम सिंह बिष्ट
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
राह तक रहे हैं नयना
राह तक रहे हैं नयना
Ashwani Kumar Jaiswal
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
*Author प्रणय प्रभात*
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* आए राम हैं *
* आए राम हैं *
surenderpal vaidya
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
मेरा केवि मेरा गर्व 🇳🇪 .
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
अब समन्दर को सुखाना चाहते हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
3-“ये प्रेम कोई बाधा तो नहीं “
Dilip Kumar
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
जालोर के वीर वीरमदेव
जालोर के वीर वीरमदेव
Shankar N aanjna
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
ऐसे न देख पगली प्यार हो जायेगा ..
Yash mehra
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
फ्लाइंग किस और धूम्रपान
Dr. Harvinder Singh Bakshi
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
चन्द्र की सतह पर उतरा चन्द्रयान
नूरफातिमा खातून नूरी
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
Loading...