Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

होलिडे-होली डे / MUSAFIR BAITHA

दिन एक भारीभरकम धार्मिक त्योहार का था। वक़्त था शाम का। मित्र किसी मोड़ पर मेरी गली के गिर्द ही मिल गए। मैं इस अवसर की छुट्टी के ब्याज से दफ़्तर से त्राण पा होलिडे (holiday) मना रहा था और मित्र शायद, होली डे (holy day)! मित्र अपने किसी आत्मीय के यहाँ धार्मिक मिलन को जा रहे थे, मैं इस धर्मोत्सव से उत्पन्न विष के लोकल प्रभाव को तनिक थाहने!

मित्र की धर्मभावना से अनजान मैंने उनके प्रति अपनी सदिच्छा प्रकट करते हुए यों कहा – “आपकी जय हो, धार्मिक अंधविश्वास की क्षय हो!”

मित्र ने अपना मुँह सुथनी सा बना लिया। शुभकामना के साथ लगे ‘ऑफशूट’ शब्दों का वे बुरा मान गए थे!

Language: Hindi
284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
माफ करना, कुछ मत कहना
माफ करना, कुछ मत कहना
gurudeenverma198
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
*रामपुर की गाँधी समाधि (तीन कुंडलियाँ)*
Ravi Prakash
Rap song (1)
Rap song (1)
Nishant prakhar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
समाज सेवक पुर्वज
समाज सेवक पुर्वज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ जय जय शनिदेव...
■ जय जय शनिदेव...
*Author प्रणय प्रभात*
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
आज नए रंगों से तूने घर अपना सजाया है।
Manisha Manjari
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
ऐ नौजवानों!
ऐ नौजवानों!
Shekhar Chandra Mitra
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
जमाने से सुनते आये
जमाने से सुनते आये
ruby kumari
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
ਕਦਮਾਂ ਦੇ ਨਿਸ਼ਾਨ
Surinder blackpen
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
2561.पूर्णिका
2561.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
मित्र बनने के उपरान्त यदि गुफ्तगू तक ना किया और ना दो शब्द ल
DrLakshman Jha Parimal
"मुलाजिम"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
कभी तो ख्वाब में आ जाओ सूकून बन के....
shabina. Naaz
Loading...