Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2023 · 1 min read

ऑन लाइन पेमेंट

पत्नी भोली न रहीं,
हो गईं अब तो चंट।
ऑन लाइन शॉपिंग करें,
ऑन लाइन पेमेंट।

ऑन लाइन पेमेंट,
बजट होता है टाइट।
अगर पति कुछ कह दिया,
तुरत शुरू हो फाइट।

मीसो, मन्त्रा, टाटा, जिओ,
अमेज़न, फ्लिपकार्ट।
इन्हों ने मिलकर लगा दिया,
सब पतियों की वाट।

यह बीमारी हर जगह,
गांव,शहर,गली,वार्ड।
शॉपिंग होय धड़ल्ल से,
संग जब क्रेडिट कार्ड।

घर में शान्ति चाहिए,
भरते रहिए फाइन।
सबकी हालत एक सी,
ही,यू ,दे,वी,माइन।

कहता है सृजन कवि,
करता सच सच मेन्ट।
कुछ न कहो बस होय दो,
ऑन लाइन पेमेंट।

194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"कष्ट"
नेताम आर सी
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-426💐
💐प्रेम कौतुक-426💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"पतझड़"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़त आया तो यूँ लगता था,
ख़त आया तो यूँ लगता था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
3215.*पूर्णिका*
3215.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
थोड़ा दिन और रुका जाता.......
Keshav kishor Kumar
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
कोई काम हो तो बताना
कोई काम हो तो बताना
Shekhar Chandra Mitra
*** सफलता की चाह में......! ***
*** सफलता की चाह में......! ***
VEDANTA PATEL
पुस्तकों से प्यार
पुस्तकों से प्यार
surenderpal vaidya
बीते कल की रील
बीते कल की रील
Sandeep Pande
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
पूर्वार्थ
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Kitna mushkil hota hai jab safar me koi sath nhi hota.
Sakshi Tripathi
उतना ही उठ जाता है
उतना ही उठ जाता है
Dr fauzia Naseem shad
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
हर रात की
हर रात की "स्याही"  एक सराय है
Atul "Krishn"
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*साइकिल (कुंडलिया)*
*साइकिल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
परीक्षा है सर पर..!
परीक्षा है सर पर..!
भवेश
Loading...