Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2018 · 2 min read

ऐ मेरे वतन के लोगों.. ….…

आज के विषय गद्य लेखन पर कवि प्रदीप जी पर मेरी प्रस्तुति।

ऐ मेरे वतन के लोगों – – – – –

मैंने इस महान कवि की जन्म स्थली पर जन्म लिया। कविवर से इसलिए अत्यधिक प्रभावित हूँ।

भारतीय चित्रपट जगत के सुप्रसिद्ध कवि प्रदीप जी देशभक्ति गीत “ऐ मेरे वतन के लोगों” की रचना ( सी रामचंद्र जी द्वारा संगीतबद्ध) करने के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान शहीद हुए सैनिकों की श्रद्धांजलि में ये गीत लिखा था। कवि प्रदीप की हार्दिक अभिलाषा थी कि इस गीत की समस्त आय युद्ध विधवा कोष में जमा की जाए।

कवि प्रदीप जी का वास्तविक नाम ‘रामचंद्र नारायणजी द्विवेदी’ था। उनका जन्म 6 फरवरी 1915 को मध्य प्रदेश राज्य के उज्जैन जिले की बड़नगर तहसील में हुआ था । कवि प्रदीप की प्रारंभिक शिक्षा कक्षा सातवीं तक इंदौर के ‘शिवाजी राव हाईस्कूल’ में हुई। इसके बाद की शिक्षा इलाहाबाद के दारागंज में संपन्न हुई। लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नातक एवं अध्यापक प्रशिक्षण पाठ्‌यक्रम संबंधी उच्च शिक्षा प्राप्त की।आप विद्यार्थी जीवन में ही हिन्दी काव्य लेखन एवं हिन्दी काव्य वाचन के शौकीन रहे।

एक कवि सम्मेलन हेतु बंबई जाने पर किसी प्रकार उनका परिचय हिमांशु राय जी से हुआ। वह रामचंद्र द्विवेदी के कविता पाठ से प्रभावित हुए कि उन्होंने 200 रुपए प्रति माह की नौकरी दे दी। हिमांशु राय के सुझाव पर उन्होंने रामचंद्र द्विवेदी ने अपना नाम प्रदीप रख लिया।
1940 में रिलीज हुई फिल्म बंधन से कवि प्रदीप जी ने पहचान पाई।
फिल्म “किस्मत” के गीत “दूर हटो ऐ दुनिया वालों हिंदुस्तान हमारा है” ने तत्कालीन ब्रिटिश सरकार ने इस गीत का भावार्थ समझ कर उनकी गिरफ्तारी के आदेश दिए। तब कुछ समय कवि प्रदीप भूमिगत रहे। यह फिल्म अपने समय की गोल्डन जुबली फिल्म थी।

प्रदीप हिंदी साहित्य जगत और हिंदी फ़िल्म जगत के एक अति सुदृढ़ रचनाकार रहे। कवि प्रदीप हमारे हिन्दी साहित्याकाश के एक दैदीप्यमान सितारा थे। वे अपने जीवन के अंतिम दिनों तक फिल्म जगत से जुड़े रहे। आप हिन्दी फिल्म जगत के प्रतिष्ठित गीतकार व संगीतकार के रूप में मशहूर थे। उनके लिखे देश भक्ति गीत अद्वितीय थे।
11 दिसम्बर 1998 के दुर्भाग्यशाली दिन भारत का यह महान देश भक्ति कवि हमें हमेशा के लिए छोड़ पर लोक गमन कर गए। आपकी देश भक्ति पूर्ण ओजस्वी सृजन भारतीय सिनेमा व हिन्दी साहित्य जगत के लिए अक्षुण्ण व अमूल्य निधि हैं। आपको हमारा कोटि-कोटि नमन वन्दन।

रंजना माथुर
दिनांक 20/04/2018
जयपुर (राजस्थान )
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मे तुम्हे इज्जत,मान सम्मान,प्यार दे सकता हु
मे तुम्हे इज्जत,मान सम्मान,प्यार दे सकता हु
Ranjeet kumar patre
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -171
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -171
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिंदगी कि सच्चाई
जिंदगी कि सच्चाई
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
रमेशराज के बालमन पर आधारित बालगीत
कवि रमेशराज
2807. *पूर्णिका*
2807. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्यों नारी लूट रही है
क्यों नारी लूट रही है
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लेकर सांस उधार
लेकर सांस उधार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सारे निशां मिटा देते हैं।
सारे निशां मिटा देते हैं।
Taj Mohammad
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
कसौटियों पर कसा गया व्यक्तित्व संपूर्ण होता है।
Neelam Sharma
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खद्योत हैं
खद्योत हैं
Sanjay ' शून्य'
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
हमसे भी अच्छे लोग नहीं आयेंगे अब इस दुनिया में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
*प्रणय प्रभात*
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
हमने आवाज़ देके देखा है
हमने आवाज़ देके देखा है
Dr fauzia Naseem shad
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
बमुश्किल से मुश्किल तक पहुँची
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रदूषन
प्रदूषन
Bodhisatva kastooriya
सुर्ख कपोलों पर रुकी ,
सुर्ख कपोलों पर रुकी ,
sushil sarna
"बेजुबान का दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
राम
राम
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
Loading...