Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 2 min read

ऐ भाई – दीपक नीलपदम्

ऐ भाई ! जरा देख कर चलो

जरा संभल कर चलो

पर उससे पहले जाग जाओ |

कब तक आँखें बंद कर

काटते रहोगे वही पेड़

जिस पर बैठे हो तुम,

ऐसा तो नहीं कि

आरी चलने की आवाज

तुम्हें सुनाई नहीं देती, या

तुम्हारी डाल के दरकने

और धीमे-धीमे नीचे सरकने

की आहट भी नहीं होती |

ये घायल शाख अभी भी जीवित हैं

और पाल रहीं हैं तुम और हम जैसे

नाशुकरों को क्योंकि

उन्हें अभी भी उम्मीद है तुमसे

कि एक न एक दिन तुम्हें अक्ल आएगी

तुम जरूर जागोगे

और उस शाख को

बचाने के लिए

जरूर भागोगे |

उस शाख को तुमसे- हमसे

उम्मीद है

क्योंकि ओढ़ रखा है एक

भारी-भरकम शब्द तुमने

अपने लिए,

मानव और मानवता

हा ! प्रकृति को पता है कि

उसका सबसे बड़ा दुश्मन

कोई और नहीं है,

हे तथाकथित मानव

सिर्फ और सिर्फ तुम हो |

तुम उस शाख को नहीं काट रहे हो

तुम मानवता की साख को काट रहे हो

डुबो रहो हो गर्त में

जहाँ तुमको भी जाना पड़ेगा एक दिन

यदि नहीं सुधरे, नहीं समझे

या यूँ कह लो

कि अपनी मक्कार आँखों को

मूंदे हुए बैठे रहे

तो जाना पड़ेगा

उसी गर्त में एक दिन |

मान लो इस बात को कि

ब्रह्म की सबसे घटिया सृजित कृति हो तुम |

अवश्य पछताता होगा विधाता भी

कि क्यों किया उसने मानव का सृजन |

ईश्वर सौ अपराध माफ़ कर देते हैं,

सुना है कहीं, तुमने भी सुना होगा

अपनी अपनी किताबों में पढ़ा भी होगा,

तो अभी भी अपनी करनी सुधार लो

अपनी धरा को कुछ संवार लो

देखना कैसे आज ही दिख जाएगी

कल की खुशहाल फ़सल |

लेकिन जल्दी करो,

अब देर मत करो |

(c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम् “

1 Like · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
कहॉं दीखती अब वह मस्ती, बचपन वाली होली जी (गीत)
Ravi Prakash
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
पन्द्रह अगस्त का दिन कहता आजादी अभी अधूरी है ।।
Kailash singh
आदमी से आदमी..
आदमी से आदमी..
Vijay kumar Pandey
* सत्य पथ पर *
* सत्य पथ पर *
surenderpal vaidya
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लड़ाई
लड़ाई
Dr. Kishan tandon kranti
मां की अभिलाषा
मां की अभिलाषा
RAKESH RAKESH
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि के साहित्य से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण पुस्तकें।
Dr. Narendra Valmiki
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
Manisha Manjari
........,?
........,?
शेखर सिंह
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
किसी के दर्द
किसी के दर्द
Dr fauzia Naseem shad
3101.*पूर्णिका*
3101.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
लोग बंदर
लोग बंदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
रंगों के पावन पर्व होली की हार्दिक बधाई व अनन्त शुभकामनाएं
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
जंगल, जल और ज़मीन
जंगल, जल और ज़मीन
Shekhar Chandra Mitra
खता मंजूर नहीं ।
खता मंजूर नहीं ।
Buddha Prakash
Mukar jate ho , apne wade se
Mukar jate ho , apne wade se
Sakshi Tripathi
*प्यार का रिश्ता*
*प्यार का रिश्ता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
कलाकृति बनाम अश्लीलता।
Acharya Rama Nand Mandal
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
कल तक जो थे हमारे, अब हो गए विचारे।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी (उनतालीस) कविताएं
मेरी (उनतालीस) कविताएं
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...