Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2016 · 1 min read

ऐ ! तिमिर

दूर हो जा ऐ ! तिमिर,
देख मैने दीप सजाये,
झिलमिल रोशनी ने,
तेरे अरमान हैं मिटाये |
बातियों सी हूँ जली मैं ,
नीर को बना तेल मैं ,
जाने कितनी बार देखो ,
दीये को भरती ही रही |
तुम हो अकेले ऐ ! तिमिर,
किंतु मैं हूँ संग दीये के,
आज है दीप्त हर कोना,
और उल्लसित हर मन|
भागना ही होगा तुम्हे ,
आज मुँह छुपा कर ,
रोशनी की भींड से,
दूर हो जा ऐ ! तिमिर||

…निधि…

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 431 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा0 निधि श्रीवास्तव "सरोद"
View all
You may also like:
दिल से ना भूले हैं।
दिल से ना भूले हैं।
Taj Mohammad
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
"मां बनी मम्मी"
पंकज कुमार कर्ण
कविता: स्कूल मेरी शान है
कविता: स्कूल मेरी शान है
Rajesh Kumar Arjun
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
हमारी जान तिरंगा, हमारी शान तिरंगा
gurudeenverma198
#निस्वार्थ-
#निस्वार्थ-
*Author प्रणय प्रभात*
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
तरुण सिंह पवार
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
तेरी मुहब्बत से, अपना अन्तर्मन रच दूं।
Anand Kumar
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
*दीपक सा मन* ( 22 of 25 )
Kshma Urmila
एक दिल ये
एक दिल ये
Dr fauzia Naseem shad
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
एक सही आदमी ही अपनी
एक सही आदमी ही अपनी
Ranjeet kumar patre
यह गोकुल की गलियां,
यह गोकुल की गलियां,
कार्तिक नितिन शर्मा
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
मान जा ओ मां मेरी
मान जा ओ मां मेरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
आखिरी उम्मीद
आखिरी उम्मीद
Surya Barman
एक मामूली शायर
एक मामूली शायर
Shekhar Chandra Mitra
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
2846.*पूर्णिका*
2846.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन
मन
Punam Pande
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
जग के जीवनदाता के प्रति
जग के जीवनदाता के प्रति
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Loading...