Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

ऐ ज़िन्दगी ..

ऐ ज़िन्दगी
न जाओ अभी छोड़ कर
अभी कुछ अधरों पर
मुस्कान का आना बाकी है!

पुष्प खिले हैं अभी अभी
मुस्काई है कली अभी
तितलियों को बगीचे में
संसार बसाना बाकी है !

बदली तो छाई है नील गगन में
पर बूँद अभी तो गिरी नहीं
मंद समीर संग जीवन में
बहार तो आना बाकी है !

मुरझा रहे हैं पादप भी
पीतपर्ण का मोल नहीं
नवजीवन संग पत्तों में
कोपल का आना बाकी है !

लुप्त से सुर थे हर गीत के
बिछुड़ा है कोई अपने मीत से
बेसुरे जीवन के हर पल में
राग का आना बाकी है !

माटी भी सूखी है धरती की
ओस बिंदु भी सूख गए
अश्रुहीन इन नयनो में
सपनों को सजाना बाकी है !

लहरें उफान पर हैं सरिता की
डगमग करती नैय्या को
तट पर लाने की खातिर
पतवार चलाना बाकी है !

जीवित है – स्मृतियों में
कुछ चेहरे मेरे अपनों के
दे खुशियाँ जो लुप्त हुए
खुशियों के उन चेहरों का
उधार चुकाना बाकी है !

ठहर जा दो पल तो
ऐ ज़िंदगी
तेरे भी सजदे में अभी
सर को झुकाना बाकी है !

डॉ सीमा वर्मा

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Seema Varma
View all
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-151💐
💐अज्ञात के प्रति-151💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“ कौन सुनेगा ?”
“ कौन सुनेगा ?”
DrLakshman Jha Parimal
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
बदले-बदले गाँव / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शब्द
शब्द
लक्ष्मी सिंह
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
अब किसी से कोई शिकायत नही रही
ruby kumari
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
कवि दीपक बवेजा
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
इतिहास गवाह है ईस बात का
इतिहास गवाह है ईस बात का
Pramila sultan
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
सुना हूं किसी के दबाव ने तेरे स्वभाव को बदल दिया
Keshav kishor Kumar
आलेख-गोविन्द सागर बांध ललितपुर उत्तर प्रदेश
आलेख-गोविन्द सागर बांध ललितपुर उत्तर प्रदेश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तारीख
तारीख
Dr. Seema Varma
पूछो हर किसी सेआजकल  जिंदगी का सफर
पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
पूर्वार्थ
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Raju Gajbhiye
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
सबनम की तरहा दिल पे तेरे छा ही जाऊंगा
सबनम की तरहा दिल पे तेरे छा ही जाऊंगा
Anand Sharma
सामाजिकता
सामाजिकता
Punam Pande
"
*Author प्रणय प्रभात*
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
Loading...