Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2022 · 1 min read

ऐसा है संविधान हमारा

ऐसा है संविधान हमारा,नहीं ऐसा संविधान कोई।
पूरे विश्व में इसकी महिमा, गाता है हर देश कोई।।
ऐसा है संविधान हमारा—————-।।

जीने का अधिकार दिया है, इसने हर मानव को।
शिक्षा का अधिकार दिया है, इसने हर समाज को।।
अभिव्यक्ति की आजादी, इसने दी है हर वर्ग को।
इसने दिया सम्मान सभी को,नहीं किया भेदभाव कोई।
ऐसा है संविधान हमारा—————।।

नारी को इसने दी ताकत,नारी इससे मजबूत हुई।
अपने ऊपर जुल्मों से, लड़ने को नारी तैयार हुई।।
इसके दम पर पहुंच गई है, नारी ऊँचे ओहदों पर।
पिछड़े और दलितों की, जागी है आत्मा इससे सोई।
ऐसा है संविधान हमारा—————-।।

नहीं है इससे कोई बड़ा और महान, संविधान कहीं।
लचीला है संविधान हमारा, लेकिन बहुत कठोर नहीं।।
फलीभूत है इससे देश में, हर धर्म और हर जाति- वर्ग।
जिसको लिखा अम्बेडकर ने, नहीं ऐसा लिखेगा कोई।
ऐसा है संविधान हमारा——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
50 Views
You may also like:
✍️कभी मिटे ना पाँव के वजूद
✍️कभी मिटे ना पाँव के वजूद
'अशांत' शेखर
थिओसॉफी के विद्वान पंडित परशुराम जोशी का व्याख्यान
थिओसॉफी के विद्वान पंडित परशुराम जोशी का व्याख्यान
Ravi Prakash
मैल
मैल
Gaurav Sharma
मिट्टी के दीप जलाना
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
इतनी सी बात पे
इतनी सी बात पे
Surinder blackpen
प्रिये
प्रिये
Kamal Deependra Singh
कतिपय दोहे...
कतिपय दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"रावण की पुकार"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
पीकर भंग जालिम खाई के पान,
डी. के. निवातिया
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
उठ जाओ भोर हुई...
उठ जाओ भोर हुई...
जगदीश लववंशी
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा दिल क्यो मचल रहा है
मेरा दिल क्यो मचल रहा है
Ram Krishan Rastogi
कुर्सीनामा
कुर्सीनामा
Shekhar Chandra Mitra
माँ स्कंदमाता
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
माशूका
माशूका
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि’
हुई कान्हा से प्रीत, मेरे ह्रदय को।
हुई कान्हा से प्रीत, मेरे ह्रदय को।
Taj Mohammad
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
बड़ी मंजिलों का मुसाफिर अगर तू
बड़ी मंजिलों का मुसाफिर अगर तू
Satish Srijan
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बालगीत - सर्दी आई
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
भूख
भूख
श्री रमण 'श्रीपद्'
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह लो।
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शिद्तों  में  जो बे'शुमार रहा ।
शिद्तों में जो बे'शुमार रहा ।
Dr fauzia Naseem shad
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
मंथरा के ऋणी....श्री राम
मंथरा के ऋणी....श्री राम
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
Loading...