Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2022 · 1 min read

ऐसा है संविधान हमारा

ऐसा है संविधान हमारा,नहीं ऐसा संविधान कोई।
पूरे विश्व में इसकी महिमा, गाता है हर देश कोई।।
ऐसा है संविधान हमारा—————-।।

जीने का अधिकार दिया है, इसने हर मानव को।
शिक्षा का अधिकार दिया है, इसने हर समाज को।।
अभिव्यक्ति की आजादी, इसने दी है हर वर्ग को।
इसने दिया सम्मान सभी को,नहीं किया भेदभाव कोई।
ऐसा है संविधान हमारा—————।।

नारी को इसने दी ताकत,नारी इससे मजबूत हुई।
अपने ऊपर जुल्मों से, लड़ने को नारी तैयार हुई।।
इसके दम पर पहुंच गई है, नारी ऊँचे ओहदों पर।
पिछड़े और दलितों की, जागी है आत्मा इससे सोई।
ऐसा है संविधान हमारा—————-।।

नहीं है इससे कोई बड़ा और महान, संविधान कहीं।
लचीला है संविधान हमारा, लेकिन बहुत कठोर नहीं।।
फलीभूत है इससे देश में, हर धर्म और हर जाति- वर्ग।
जिसको लिखा अम्बेडकर ने, नहीं ऐसा लिखेगा कोई।
ऐसा है संविधान हमारा——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
वो भी तन्हा रहता है
वो भी तन्हा रहता है
'अशांत' शेखर
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
बेरंग दुनिया में
बेरंग दुनिया में
पूर्वार्थ
फायदा उठाया है उसने अपने पद का
फायदा उठाया है उसने अपने पद का
कवि दीपक बवेजा
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/112.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जय शिव-शंकर
जय शिव-शंकर
Anil Mishra Prahari
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
*बरसे एक न बूँद, मेघ क्यों आए काले ?*(कुंडलिया)
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
लोगों को सफलता मिलने पर खुशी मनाना जितना महत्वपूर्ण लगता है,
Paras Nath Jha
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
सुनो सखी !
सुनो सखी !
Manju sagar
-  मिलकर उससे
- मिलकर उससे
Seema gupta,Alwar
*** मां की यादें ***
*** मां की यादें ***
Chunnu Lal Gupta
पिया घर बरखा
पिया घर बरखा
Kanchan Khanna
SHELTER OF LIFE
SHELTER OF LIFE
Awadhesh Kumar Singh
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
* शुभ परिवर्तन *
* शुभ परिवर्तन *
surenderpal vaidya
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
तीखा सूरज : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
चाय की चुस्की लेते ही कुछ देर तक ऊर्जा शक्ति दे जाती है फिर
Shashi kala vyas
एकांत
एकांत
Monika Verma
Loading...