Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 17, 2016 · 1 min read

ऐसा दूल्हा चाहिए(हास्य )

ऐसा दूल्हा ढूँढना,
सुन लो बाबुल बात

देय सैलरी हाथ में,
मॉल घुमाये रात

मॉल घुमाये रात,
डिनर प्रतिदिन होटल में

माँगू जो भी चीज,
दौड ले आये पल में

रित्विक सा हो फेस,
खूब ही लावै पैसा

रखे हमेशा ख्याल,
चाहिये प्रीतम ऐसा॥

13 Comments · 655 Views
You may also like:
पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
समय ।
Kanchan sarda Malu
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
दिल की ये आरजू है
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
देश के नौजवानों
Anamika Singh
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
रफ्तार
Anamika Singh
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
आओ तुम
sangeeta beniwal
Loading...