Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2016 · 1 min read

ऐसा दूल्हा चाहिए(हास्य )

ऐसा दूल्हा ढूँढना,
सुन लो बाबुल बात

देय सैलरी हाथ में,
मॉल घुमाये रात

मॉल घुमाये रात,
डिनर प्रतिदिन होटल में

माँगू जो भी चीज,
दौड ले आये पल में

रित्विक सा हो फेस,
खूब ही लावै पैसा

रखे हमेशा ख्याल,
चाहिये प्रीतम ऐसा॥

13 Comments · 820 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
बेपरवाह खुशमिज़ाज़ पंछी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इस तरह बदल गया मेरा विचार
इस तरह बदल गया मेरा विचार
gurudeenverma198
"मन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां कात्यायनी
मां कात्यायनी
Mukesh Kumar Sonkar
जिन्दगी में फैसले अपने दिमाग़ से लेने चाहिए न कि दूसरों से पू
जिन्दगी में फैसले अपने दिमाग़ से लेने चाहिए न कि दूसरों से पू
अभिनव अदम्य
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
!!! भिंड भ्रमण की झलकियां !!!
!!! भिंड भ्रमण की झलकियां !!!
जगदीश लववंशी
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हमारा भारतीय तिरंगा
हमारा भारतीय तिरंगा
Neeraj Agarwal
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
इतनी महंगी हो गई है रिश्तो की चुंबक
कवि दीपक बवेजा
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मां की शरण
मां की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
130 किताबें महिलाओं के नाम
130 किताबें महिलाओं के नाम
अरशद रसूल बदायूंनी
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
तुम जा चुकी
तुम जा चुकी
Kunal Kanth
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
चंद अपनों की दुआओं का असर है ये ....
shabina. Naaz
महा कवि वृंद रचनाकार,
महा कवि वृंद रचनाकार,
Neelam Sharma
*नई पावन पवन लेकर, सुहाना चैत आया है (मुक्तक)*
*नई पावन पवन लेकर, सुहाना चैत आया है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जब-जब मेरी क़लम चलती है
जब-जब मेरी क़लम चलती है
Shekhar Chandra Mitra
अपनी क़िस्मत को हम
अपनी क़िस्मत को हम
Dr fauzia Naseem shad
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...