Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

ऐसा कहा जाता है कि

ऐसा कहा जाता है कि
जब कोई पति अपनी पत्नी पर कम
और अपने फोन पर ज्यादा ध्यान देने लगे
तो समझ लीजिए कि उन दोनों के बीच कोई तीसरा शख्स आ गया है।
वो तीसरी जिम्मेदारी भी हो सकती है..

64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
प्रेम मोहब्बत इश्क के नाते जग में देखा है बहुतेरे,
Anamika Tiwari 'annpurna '
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
घनघोर इस अंधेरे में, वो उजाला कितना सफल होगा,
Sonam Pundir
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
* भावना स्नेह की *
* भावना स्नेह की *
surenderpal vaidya
सत्य की खोज, कविता
सत्य की खोज, कविता
Mohan Pandey
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#शुभ_प्रतिपदा
#शुभ_प्रतिपदा
*Author प्रणय प्रभात*
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
घट -घट में बसे राम
घट -घट में बसे राम
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
भवेश
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
हिंदी मेरी माँ
हिंदी मेरी माँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
लाड बिगाड़े लाडला ,
लाड बिगाड़े लाडला ,
sushil sarna
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
कश्मकश
कश्मकश
swati katiyar
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
पास आना तो बहाना था
पास आना तो बहाना था
भरत कुमार सोलंकी
3183.*पूर्णिका*
3183.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
चरित्र साफ शब्दों में कहें तो आपके मस्तिष्क में समाहित विचार
Rj Anand Prajapati
Upon waking up, oh, what do I see?!!
Upon waking up, oh, what do I see?!!
R. H. SRIDEVI
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...