Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

ए वक्त तूं…!

ए वक्त तूं बहुत पाबंद है…
तेरे साथ हर कोई रज़ामंद है…
तूं चलता रहता है, बिना थकान, बिना अरमान
किसी को कुछ बताता नहीं, चाह कर भी बोल पाता नहीं
क्यों है तेरी यह मजबूरी, क्यों है हर वस्तु तुम से अधूरी
अच्छे तूं, बुरे का तूं…आखिर क्या बला है तूं
अगर ठहर जाउगे तो तुम्हारा क्या जाएगा
किसी की बेला पे कोई ग्रहण लग जाएगा
बहुत करने से तुम से सवाल
क्यों होता है तेरा हर पल बवाल
लाख उलहने सहते हो, फिर भी खुद की धुन में रहते हो
ए वक्त तूं बड़ा बलवान है…..आपने-आप में सब की पहचान है…!

Language: Hindi
275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
कोई बिगड़े तो ऐसे, बिगाड़े तो ऐसे! (राजेन्द्र यादव का मूल्यांकन और संस्मरण) / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"तेरे लिए.." ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
Sandeep Pande
संत कबीरदास
संत कबीरदास
Pravesh Shinde
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
Vishal babu (vishu)
मेरी अम्मा तेरी मॉम
मेरी अम्मा तेरी मॉम
Satish Srijan
तुम्हारी वजह से
तुम्हारी वजह से
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
5 दोहे- वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई पर केंद्रित
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
मिलन
मिलन
Gurdeep Saggu
विषय
विषय
Rituraj shivem verma
मन बड़ा घबराता है
मन बड़ा घबराता है
Harminder Kaur
"मन और मनोबल"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
*किले में योगाभ्यास*
*किले में योगाभ्यास*
Ravi Prakash
ज़रा पढ़ना ग़ज़ल
ज़रा पढ़ना ग़ज़ल
Surinder blackpen
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
डिगरी नाहीं देखाएंगे
डिगरी नाहीं देखाएंगे
Shekhar Chandra Mitra
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
भाई बहिन के त्यौहार का प्रतीक है भाईदूज
gurudeenverma198
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
💐प्रेम कौतुक-425💐
💐प्रेम कौतुक-425💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3274.*पूर्णिका*
3274.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
Yashmehra
Yashmehra
Yash mehra
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
जब जब मुझको हिचकी आने लगती है।
सत्य कुमार प्रेमी
हादसे बोल कर नहीं आते
हादसे बोल कर नहीं आते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...