Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2022 · 1 min read

एहसास पर लिखे अशआर

तू बिछड़ के देख लेना
एहसास तुझको होगा ।
मुझे दर्द कोई होगा
तो महसूस तुझको होगा ।।

एहसास कोई रुलाता नहीं है ।
यूँ ही भीग जाती हैं आँखें हमारी ।।

हमको एहसास अब नहीं होता ।
हमने मजबूरियों को समझा है ।।

दर्द को फिर राहते नहीं मिलती ।
लफ़्ज़ एहसास जब सिमट जाए ।।

एक एहसास ही था तेरा ।
तेरे एहसास में रहा बाक़ी ।।

सारे एहसास के रिश्तों से मुकर जाते हैं ।
जब हक़ीक़त के सवालों से गुज़र जाते हैं ।।

लफ़्ज़ों में पिरो लेते हैं एहसास के मोती ।
हमें इज़हार-ए- तमन्ना का सलीक़ा नहीं आता ।।

नज़ारा दर्द का पल भर में बदल जाए ।
दिलों को दर्द का अगर एहसास मिल जाए ।।

डॉ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
लोगों की फितरत का क्या कहें जनाब यहां तो,
Yogendra Chaturwedi
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
मैं समुद्र की गहराई में डूब गया ,
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
शेखर सिंह
2926.*पूर्णिका*
2926.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
उन्नति का जन्मदिन
उन्नति का जन्मदिन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
हर पल
हर पल
Davina Amar Thakral
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
शायरी
शायरी
गुमनाम 'बाबा'
"प्रार्थना"
Dr. Kishan tandon kranti
हिमनद
हिमनद
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
■ आज नहीं अभी 😊😊
■ आज नहीं अभी 😊😊
*प्रणय प्रभात*
स्वप्न कुछ
स्वप्न कुछ
surenderpal vaidya
अनिल
अनिल "आदर्श "
अनिल "आदर्श"
पिता के नाम पुत्री का एक पत्र
पिता के नाम पुत्री का एक पत्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
इक रोज़ मैं सोया था,
इक रोज़ मैं सोया था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
*****श्राद्ध कर्म*****
*****श्राद्ध कर्म*****
Kavita Chouhan
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
औरत औकात
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
ज़िंदगी इसमें
ज़िंदगी इसमें
Dr fauzia Naseem shad
कौन?
कौन?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
*बांहों की हिरासत का हकदार है समझा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
19--🌸उदासीनता 🌸
19--🌸उदासीनता 🌸
Mahima shukla
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बीता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
Loading...