Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

एहसास कभी ख़त्म नही होते ,

एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
दिलो मे दफन हो जाते है.!
रूह तो रूह ही रहती है साहब ,
जिंदगी ख़त्म हो जाते है.!!

56 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
গাছের নীরবতা
গাছের নীরবতা
Otteri Selvakumar
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dipak Kumar "Girja"
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
हम हंसना भूल गए हैं (कविता)
Indu Singh
इक पखवारा फिर बीतेगा
इक पखवारा फिर बीतेगा
Shweta Soni
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*प्रणय प्रभात*
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है  जब उसकी प्रेमि
मेरे मित्र के प्रेम अनुभव के लिए कुछ लिखा है जब उसकी प्रेमि
पूर्वार्थ
*युद्ध*
*युद्ध*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
2926.*पूर्णिका*
2926.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक चतुर नार
एक चतुर नार
लक्ष्मी सिंह
गुलाब
गुलाब
Prof Neelam Sangwan
नजर से मिली नजर....
नजर से मिली नजर....
Harminder Kaur
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
मेरे शब्द, मेरी कविता, मेरे गजल, मेरी ज़िन्दगी का अभिमान हो तुम
Anand Kumar
"किसी दिन"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रिसमस से नये साल तक धूम
क्रिसमस से नये साल तक धूम
Neeraj Agarwal
आडम्बर के दौर में,
आडम्बर के दौर में,
sushil sarna
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
नव वर्ष आया हैं , सुख-समृद्धि लाया हैं
Raju Gajbhiye
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
*पाऍं कैसे ब्रह्म को, आओ करें विचार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
आओ न! बचपन की छुट्टी मनाएं
डॉ० रोहित कौशिक
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
42...Mutdaarik musamman saalim
42...Mutdaarik musamman saalim
sushil yadav
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
ଡାକ ଆଉ ଶୁଭୁ ନାହିଁ ହିଆ ଓ ଜଟିଆ
Bidyadhar Mantry
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...