Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2022 · 1 min read

एसजेवीएन – बढ़ते कदम

बढ़ रहा आगे ये मेरा एसजेवीएन
आज अविरल रफ्तार से
कर रहा नाम रोशन दुनिया में देश का
अपने विकास के काम से

मना चुका अपना लोहा ये
पहले ही जल ऊर्जा के क्षेत्र में
बढ़ रहे अब कदम इसके
पवन और सौर ऊर्जा के क्षेत्र में

नित नए कीर्तिमान बनाकर
देश के विकास में योगदान दे रहा
अपने प्रोजेक्टों के क्षेत्रों में
शिक्षा स्वास्थ्य को बढ़ावा दे रहा

शुरुआत हुई एक प्रोजेक्ट से
अब अनेक प्रोजेक्ट मिल रहे
बढ़ रही दक्षता इतनी की समय से पहले
अपने लक्ष्य हम पूरा कर रहे

हर कर्मचारी दे रहा अपना योगदान
काम करके मिलजुल कर इस त्रिवेणी में
देखते ही देखते शामिल हो गया एसजेवीएन
मिनी रत्न और शेड्यूल ए की श्रेणी में

है दुआ नित आगे बढ़ता रहे
ऊर्जा के हर क्षेत्र में अग्रणी रहे
हासिल करे अपने सारे लक्ष्य
राष्ट्र गौरव की पताका फैलाता रहे।

Language: Hindi
Tag: कविता
11 Likes · 5 Comments · 476 Views
You may also like:
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
छंद:-अनंगशेखर(वर्णिक)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना...
Manisha Manjari
हकीकत
पीयूष धामी
समीक्षा सॉनेट संग्रह
Pakhi Jain
खुदा के आलावा।
Taj Mohammad
श्री गणेश स्तुति
Shivkumar Bilagrami
Writing Challenge- समय (Time)
Sahityapedia
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
सुनहरी स्मृतियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
असली पप्पू
Shekhar Chandra Mitra
प्रकृति पर्यावरण बचाना, नैतिक जिम्मेदारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'वर्षा ऋतु'
Godambari Negi
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
*कौवा( हिंदी गजल/गीतिका )*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी
Rj Anand Prajapati
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
कहानी *"ममता"* पार्ट-3 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
जब शून्य में आकाश को देखता हूँ
gurudeenverma198
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
एक ज़िंदगी में
Dr fauzia Naseem shad
■ ख़ान हुए रसखान
*Author प्रणय प्रभात*
सामन्ती संस्कार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️हर लड़की के दिल में ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
मटका
Satish Srijan
✍️पर्दा-ताक हुवा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
Loading...