Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,

एतबार इस जमाने में अब आसान नहीं रहा,
क्योंकि इंसान अब पहले जैसा इंसान नहीं रहा।

1 Like · 351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुज़िश्ता साल -नज़्म
गुज़िश्ता साल -नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
296क़.*पूर्णिका*
296क़.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
अपनी स्टाईल में वो,
अपनी स्टाईल में वो,
Dr. Man Mohan Krishna
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
" ऐसा रंग भरो पिचकारी में "
Chunnu Lal Gupta
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
shabina. Naaz
रंगों  में   यूँ  प्रेम   को   ऐसे   डालो   यार ।
रंगों में यूँ प्रेम को ऐसे डालो यार ।
Vijay kumar Pandey
यादें...
यादें...
Harminder Kaur
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
लैला लैला
लैला लैला
Satish Srijan
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
वो जो ख़ामोश
वो जो ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
रमेशराज के दो लोकगीत –
रमेशराज के दो लोकगीत –
कवि रमेशराज
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
*जीता हमने चंद्रमा, खोज चल रही नित्य (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
"I'm someone who wouldn't mind spending all day alone.
पूर्वार्थ
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्याही की
स्याही की
Atul "Krishn"
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
जिंदगी की ऐसी ही बनती है, दास्तां एक यादगार
gurudeenverma198
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
भँवर में जब कभी भी सामना मझदार का होना
अंसार एटवी
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
आग लगाना सीखिए ,
आग लगाना सीखिए ,
manisha
💐प्रेम कौतुक-245💐
💐प्रेम कौतुक-245💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...