Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Aug 2016 · 1 min read

एग्जाम एंथम | अभिषेक कुमार अम्बर

हम होंगे सब में पास
हम होंगे सबमें पास
हम होंगे सब में पास
एक दिन………..।
हो………………।
सोते हैं बिंदास
लिखते हैं बक़वास
फिर भी है विश्वास
मार्क्स मिलेंगे झक्कास
एक दिन……….।
हो……………..।
सबके अलग अलग एजेंडे
आज़माते नए नए हथकंडे
जब पेपर में आते अंडे
चलते टीचर जी के
डंडे
फिर भी रखते पूरे आस
हम होंगे सबमें पास
एक दिन………….।
व्हाट्सएप पर होता है सवेरा
फेसबुक पर रहता है डेरा
पुस्तक न आती हमें रास
करते खुदा से है अरदास
न हमें इस झंझट में फाँस
हम होंगे सबमें पास
एक दिन………….।

©अभिषेक कुमार अम्बर

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
"जुदा"
Dr. Kishan tandon kranti
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
रूह मर गई, मगर ख्वाब है जिंदा
कवि दीपक बवेजा
बोलती आँखें
बोलती आँखें
Awadhesh Singh
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
*गुरु हैं कृष्ण महान (सात दोहे)*
Ravi Prakash
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
Indu Singh
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
गज़ले
गज़ले
Dr fauzia Naseem shad
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
आव्हान
आव्हान
Shyam Sundar Subramanian
2266.
2266.
Dr.Khedu Bharti
जाते जाते कुछ कह जाते --
जाते जाते कुछ कह जाते --
Seema Garg
छुट्टी बनी कठिन
छुट्टी बनी कठिन
Sandeep Pande
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
Neelam Sharma
"अगली राखी आऊंगा"
Lohit Tamta
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
जो हमारे ना हुए कैसे तुम्हारे होंगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
किताब
किताब
Neeraj Agarwal
Loading...