Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2024 · 1 min read

एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव

एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
दूसरी जेनरेशन को जज कर रही है
और एक जेनरेशन दूसरी जेनरेशन को के रही है आपको कुछ नही आता है,वक्त बदल गया है। दोनो एक दूसरे के वक्त और व्यक्तित्व को समझे बिना
एक दूसरे के क्षमता और अनुभव को अपने अपने संघर्ष से जज कर रहे है । अगर ऐसा रहेगा ना घर में तालमेल होगा ना समाज में।
समय की नजाकत और जीवन के हर उम्र के ज्ञान और अनुभवको साथ मिलकर सुनकर समझ कर साथ रहना चलना सुनना समझना होगा वक्त अनुभव और क्षमता को बिना जज किए व्यक्ति को। तभी तालमेल घर में और समझ में हर पीढ़ी में और हर पीढ़ी के साथ संभव है।
आज कल।पीढ़ियों के बीच में संवाद समझ और भावना को समझ को रिक्तता बहुत गेंहरी होती जा है। क्योंकि दोनो पीढ़ी को अपने अनुभव का अहम है , एक पीढ़ी कह रही है तुमको कुछ नही आता और एक पीढ़ी कह रहे है अपने उमर में किए संघर्ष और मेहनत के ताने और जज करना।

44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
कुछ बूँद हिचकियाँ मिला दे
शेखर सिंह
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आत्मनिर्भर नारी
आत्मनिर्भर नारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
बधाई हो बधाई, नये साल की बधाई
gurudeenverma198
मीठा गान
मीठा गान
rekha mohan
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे सपनों का भारत
मेरे सपनों का भारत
Neelam Sharma
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
बस तेरे हुस्न के चर्चे वो सुबो कार बहुत हैं ।
Phool gufran
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
अपनी सत्तर बरस की मां को देखकर,
Rituraj shivem verma
भारत की सेना
भारत की सेना
Satish Srijan
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
*घूॅंघट में द्विगुणित हुआ, नारी का मधु रूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
Keshav kishor Kumar
#छोटी_सी_नज़्म
#छोटी_सी_नज़्म
*प्रणय प्रभात*
“ जीवन साथी”
“ जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
Ice
Ice
Santosh kumar Miri
सीख गुलाब के फूल की
सीख गुलाब के फूल की
Mangilal 713
बीती बिसरी
बीती बिसरी
Dr. Rajeev Jain
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
यादों का बसेरा है
यादों का बसेरा है
Shriyansh Gupta
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
गुलाब दिवस ( रोज डे )🌹
Surya Barman
Loading...