Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

एक ही राम

आब ए जम-जम पीकर देखा,
गंगाजल भी पान किया।
उसका रूप मिला जैसा भी,
जी भर के गुणगान किया।

वाहेगुरु,रब,राम,यहोवा,
सबका एक सा काम मिला।
अंदर झाँका एक नूर था,
उसका एक ही नाम मिला।

अगर तमन्ना पाना उसको,
मज़हब के चश्में को फेंको।
बंद नज़र के अंदर झांको,
रब के अजब करिश्में देखो।

बुल्ला,रूम,बाहु सुल्ताना,
थे क़ामिल दरवेश।
अंदर सज़दा किया प्यार से,
देखा रब का देश।

वही एक हैं हर जर्रे में,
दूजा और न पाया।
जिसने एक झलक भी देखा,
अंदर सहज छिपाया।

रब ने तो इंसान बनाया,
इंसा धर्म बना कर बैठा।
अपनी डफली,राग है अपना,
एक दूजे से दिखता ऐंठा।

जितने क़ामिल मुरशिद आये,
सबने इक उपदेश दिया।
यही कहा वह सांझा सबका,
तेरा मेरा नहीं किया।

सृजन भी बड़भागी खुद में,
मिल गया मुरशिद पूरा।
अंदर चानन पाया रचके,
हो कर पग का धूरा।

2 Likes · 2 Comments · 104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
2614.पूर्णिका
2614.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ नंगे नवाब, किले में घर।।😊
■ नंगे नवाब, किले में घर।।😊
*प्रणय प्रभात*
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
हवाओं के भरोसे नहीं उड़ना तुम कभी,
Neelam Sharma
एक छोर नेता खड़ा,
एक छोर नेता खड़ा,
Sanjay ' शून्य'
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
लेकर तुम्हारी तस्वीर साथ चलता हूँ
VINOD CHAUHAN
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
Sapna Arora
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
इश्क की वो  इक निशानी दे गया
इश्क की वो इक निशानी दे गया
Dr Archana Gupta
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
आप सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं
आप सभी को रामनवमी की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Raju Gajbhiye
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
इश्क़ में ज़हर की ज़रूरत नहीं है बे यारा,
शेखर सिंह
हिंदी दोहा -रथ
हिंदी दोहा -रथ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
Jogendar singh
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक
श्रंगार के वियोगी कवि श्री मुन्नू लाल शर्मा और उनकी पुस्तक " जिंदगी के मोड़ पर " : एक अध्ययन
Ravi Prakash
मृगनयनी सी आंखों में मेरी सूरत बसा लेना,
मृगनयनी सी आंखों में मेरी सूरत बसा लेना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
धमकियाँ देना काम है उनका,
धमकियाँ देना काम है उनका,
Dr. Man Mohan Krishna
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
शरद पूर्णिमा पर्व है,
शरद पूर्णिमा पर्व है,
Satish Srijan
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सच्चाई की कीमत
सच्चाई की कीमत
Dr Parveen Thakur
ये लोकतंत्र की बात है
ये लोकतंत्र की बात है
Rohit yadav
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
Loading...