Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2022 · 1 min read

एक हरे भरे गुलशन का सपना

मैने देखा सदा से एक सुंदर सपना ,
बड़ा सुंदर लहलहाता उपवन हो अपना ।

रंग बिरंगे तरह तरह फूल और पौधे हों,
खिलते रहे मुस्कराते रहे लगे प्यारा कितना ।

एक तरफ फुलवारी और एक तरफ सब्जियां,
जरूरत हो कभी तो पड़े न बाहर जाना ।

समय समय पर खाद देकर इन्हें देना पोषण ,
पानी की बौछारों से सुबह शाम नहलाना ।

ताकि कोई फूल न मुरझाए ,ना कोई हो मृत ,
इनकी जीवन रक्षा को काम है मेरा तत्पर रहना।

मगर फिर भी यदि कोई रूठ जाए या मर जाए,
तो मुश्किल हो जाता इनको मनाना और जिलाना ।

आज कल पौधे कितने महंगे और कीमती हो गए है ,
उस पर बड़ा कचोटता है इनका बर्बाद होना।

कभी गुगल से तो कभी यूट्यूब से जानकारी लेते ,तो
कभी फेसबुक ग्रुप से पड़ता है इनका इलाज पूछना।

सभी से तरह तरह की जानकारी और नुस्खे मिलते,
मगर एक भी न चले उपाय हाय! कैसी विडंबना ।

तरह तरह के पौधे और सबकी होती भिन्न प्रकृति,
पानी ,धूप और खाद के अनुपात को मुश्किल है जानना।

यार ! बड़ी उलझन है जीवन में वैसे ही उसपर यह !
मगर अपनी रुचि को जरूरी है फिर भी जीवंत रखना।

क्या करे ” अनु” करो इसकी समस्या का निवारण,
आखिर कैसे पूर्ण हो सदा हरा भरा गुलशन का सपना।

Language: Hindi
3 Likes · 6 Comments · 659 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
Ranjeet kumar patre
गुलाबों का सौन्दर्य
गुलाबों का सौन्दर्य
Ritu Asooja
क्या कहूँ
क्या कहूँ
Ajay Mishra
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पुरुषो को प्रेम के मायावी जाल में फसाकर , उनकी कमौतेजन्न बढ़
पूर्वार्थ
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
यहाँ प्रयाग न गंगासागर,
Anil chobisa
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अपनाना है तो इन्हे अपना
अपनाना है तो इन्हे अपना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
राम नाम अवलंब बिनु, परमारथ की आस।
Satyaveer vaishnav
2956.*पूर्णिका*
2956.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
हिंदू कौन?
हिंदू कौन?
Sanjay ' शून्य'
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
SPK Sachin Lodhi
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*पाया दुर्लभ जन्म यह, मानव-तन वरदान【कुंडलिया】*
*पाया दुर्लभ जन्म यह, मानव-तन वरदान【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
भारत कभी रहा होगा कृषि प्रधान देश
शेखर सिंह
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
रामकली की दिवाली
रामकली की दिवाली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
■ हम हों गए कामयाब चाँद पर...
*Author प्रणय प्रभात*
सर्वश्रेष्ठ गीत - जीवन के उस पार मिलेंगे
सर्वश्रेष्ठ गीत - जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
हर दिन माँ के लिए
हर दिन माँ के लिए
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
मानवता
मानवता
Rahul Singh
Loading...