Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

” एक हद के बाद”

मेरी चुप्पी को सब मेरी,
कमजोरी समझते हैं।
रहूं खामोश गर मैं तो,
सब मेरी ग़लती समझते हैं।

रहेंगे जो साथ मिलकर सब,
तो रिश्ते खूब चलेंगे।
क्योंकि जहां हद पार होती है,
वहां रिश्ते बिखरते हैं ।

जब धैर्य की सारी
सीमाएं टूट जाती हैं ,
वहां तब अदब करने की
वजह सब छूट जाती है

निभाऊं झुक कर मैं रिश्ते
मुझे कमजोर न समझो।
हैं ए संस्कार जो मेरे,
मैने अपनी मां से पाए हैं।

ए रिश्ते फूल से कोमल,
अहम में आके न तोड़ो।
बंधे हैं कच्ची डोरी से,
इन्हें तुम प्यार से रख्खो।

लगाया जोर जोर इन पर,
तो रिश्ता टूट जाएगा।
घमंड में आके जो खींचा,
तो धागा टूट जाएगा।

क्योंकि जहां हद पार होती है,
वहां रिश्ते टूट जाते है।
जो नजरों से उतर जाता,
न उसका मान हो पाता।

रूबी चेतन शुक्ला
अलीगंज
लखनऊ

Language: Hindi
11 Likes · 13 Comments · 1035 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"आशा-तृष्णा"
Dr. Kishan tandon kranti
#सुबह_की_प्रार्थना
#सुबह_की_प्रार्थना
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी किरदार हैं।
Neeraj Agarwal
आलस्य का शिकार
आलस्य का शिकार
Paras Nath Jha
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
उड़ने का हुनर आया जब हमें गुमां न था, हिस्से में परिंदों के
Vishal babu (vishu)
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सुख दुःख
सुख दुःख
जगदीश लववंशी
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
बूढ़ा बरगद का पेड़ बोला (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफर की महोब्बत
सफर की महोब्बत
Anil chobisa
*मुनिया सोई (बाल कविता)*
*मुनिया सोई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
श्रीराम पे बलिहारी
श्रीराम पे बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
तेरी चेहरा जब याद आती है तो मन ही मन मैं मुस्कुराने लगता।🥀🌹
जय लगन कुमार हैप्पी
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
मुसाफिर हैं जहां में तो चलो इक काम करते हैं
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तारे दिन में भी चमकते है।
तारे दिन में भी चमकते है।
Rj Anand Prajapati
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
अक्ल का अंधा - सूरत सीरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
Rajesh vyas
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
चमकते चेहरों की मुस्कान में....,
कवि दीपक बवेजा
कुछ बात थी
कुछ बात थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...