Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2016 · 2 min read

एक स्वप्न तुम्हारे साथ का

शरद पूर्णिमा का चाँद अपनी सोलहों कलाओं के साथ आकाश के मध्य में विराजमान था। पूरी धरा पर अमृत-रस की वर्षा के साथ शरद ऋतु का आरम्भ हो रहा था। गंगा की लहरों में चंद्रमा का वो प्रतिबिम्ब, मन को लुभा रहे थे। और इसी मनोरम दृश्य में तुम मेरे बगल में, मेरे कांधे पर सर रखे गंगा-जल से खेल रही थी।
श्री, भू, कीर्ति, इला, लीला, कांति, विद्या, विमला, उत्कर्शिनी, ज्ञान, क्रिया, योग, प्रहवि, सत्य, इसना और अनुग्रह। ये सोलहों कलाएं सिर्फ चंद्रमा में ही नहीं बल्कि तुममे भी विद्यमान थीं। चंद्रमा ने मानो अपनी सोलहों कलाओं को तुम्हें उपहार स्वरुप दिया हो। वो कमर तक काले बाल तुम्हारे, अगर खोल दो तो ये पूर्णिमा का चाँद भी कहीं खो जाए उनमें। वो ख़ूबसूरत हिरनी जैसी आँखें और उनमें हल्की-सी कजरे की धार। चार चाँद लगा रहे थे तुम्हारी खूबसूरती पर। अब भी याद है मुझे वो मधुर पल जब तुम काँधे से सर उठा कर मुझसे बात करके मुस्कुराती यूँ लगता की इससे अच्छा और कोई दृश्य ही नहीं दुनिया में। मैं तुम्हारे चेहरे की मासूमियत को अपने लब्ज़ों में ढालने का प्रयास करता। मेरे मासूम से इस असफल प्रयास पर जब तुम हँसती तो तुम्हारे कान के बाले भी मेरे मन की तरह पुलकित हो उठते। वो पल जब तुम सारी दुनिया भूल कर बस मेरी ही हुई बैठी थी उस पल को मैं कभी नहीं भूल सकूँगा। तुम्हारी उन मधुर बातों ने मेरे मन की विरह-अग्नि को बिल्कुल शान्त कर दी। मेरे मन में मानो प्यार का सैलाब उमड़ आया। जैसे गंगा की अविरल धारा मेरे सामने बह रही थी ठीक वैसी ही अविरल प्रेम की धारा मेरे मन में भी बहने लगी। जैसे पूर्णिमा का वो चाँद पुरे जग को शीतलता दे रहा था ठीक वैसे ही वर्षों से विरह-अग्नि में जले मेरे मन को शीतलता दी तुम्हारी उन प्रेम-पूर्ण बातों ने।तुम उठी ये कह कर कि-“अब बिरहा-अग्नि में जलने की जरुरत नहीं। मैंने ये निर्णय कर लिया है कि अब हम एक होंगें।” मैं भी उठा तुमने आलिंगन करना चाहा।
मेरी आँख खुल गयी मैं अपने बिस्तर पर लेटा मुस्कुरा रहा था।बड़ी मुश्किल से समझ पाया की ये एक स्वप्न था।
एक स्वप्न तुम्हारे साथ का।
-अनुपम राय’कौशिक’

Language: Hindi
Tag: लेख
350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
रुपयों लदा पेड़ जो होता ,
Vedha Singh
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
*माटी कहे कुम्हार से*
*माटी कहे कुम्हार से*
Harminder Kaur
आज की प्रस्तुति - भाग #1
आज की प्रस्तुति - भाग #1
Rajeev Dutta
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
श्री रामलला
श्री रामलला
तरुण सिंह पवार
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
धारा ३७० हटाकर कश्मीर से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ सियासी व्यंग्य-
■ सियासी व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
इबादत अपनी
इबादत अपनी
Satish Srijan
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
2430.पूर्णिका
2430.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
कैसे भुला पायेंगे
कैसे भुला पायेंगे
Surinder blackpen
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
मजबूरियों से ज़िन्दा रहा,शौक में मारा गया
पूर्वार्थ
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुशियों की आँसू वाली सौगात
खुशियों की आँसू वाली सौगात
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
-- मुंह पर टीका करना --
-- मुंह पर टीका करना --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य!
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य!
Shekhar Chandra Mitra
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
*जय हनुमान वीर बलशाली (कुछ चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
जल
जल
मनोज कर्ण
Loading...