एक स्वप्न तुम्हारे साथ का

शरद पूर्णिमा का चाँद अपनी सोलहों कलाओं के साथ आकाश के मध्य में विराजमान था। पूरी धरा पर अमृत-रस की वर्षा के साथ शरद ऋतु का आरम्भ हो रहा था। गंगा की लहरों में चंद्रमा का वो प्रतिबिम्ब, मन को लुभा रहे थे। और इसी मनोरम दृश्य में तुम मेरे बगल में, मेरे कांधे पर सर रखे गंगा-जल से खेल रही थी।
श्री, भू, कीर्ति, इला, लीला, कांति, विद्या, विमला, उत्कर्शिनी, ज्ञान, क्रिया, योग, प्रहवि, सत्य, इसना और अनुग्रह। ये सोलहों कलाएं सिर्फ चंद्रमा में ही नहीं बल्कि तुममे भी विद्यमान थीं। चंद्रमा ने मानो अपनी सोलहों कलाओं को तुम्हें उपहार स्वरुप दिया हो। वो कमर तक काले बाल तुम्हारे, अगर खोल दो तो ये पूर्णिमा का चाँद भी कहीं खो जाए उनमें। वो ख़ूबसूरत हिरनी जैसी आँखें और उनमें हल्की-सी कजरे की धार। चार चाँद लगा रहे थे तुम्हारी खूबसूरती पर। अब भी याद है मुझे वो मधुर पल जब तुम काँधे से सर उठा कर मुझसे बात करके मुस्कुराती यूँ लगता की इससे अच्छा और कोई दृश्य ही नहीं दुनिया में। मैं तुम्हारे चेहरे की मासूमियत को अपने लब्ज़ों में ढालने का प्रयास करता। मेरे मासूम से इस असफल प्रयास पर जब तुम हँसती तो तुम्हारे कान के बाले भी मेरे मन की तरह पुलकित हो उठते। वो पल जब तुम सारी दुनिया भूल कर बस मेरी ही हुई बैठी थी उस पल को मैं कभी नहीं भूल सकूँगा। तुम्हारी उन मधुर बातों ने मेरे मन की विरह-अग्नि को बिल्कुल शान्त कर दी। मेरे मन में मानो प्यार का सैलाब उमड़ आया। जैसे गंगा की अविरल धारा मेरे सामने बह रही थी ठीक वैसी ही अविरल प्रेम की धारा मेरे मन में भी बहने लगी। जैसे पूर्णिमा का वो चाँद पुरे जग को शीतलता दे रहा था ठीक वैसे ही वर्षों से विरह-अग्नि में जले मेरे मन को शीतलता दी तुम्हारी उन प्रेम-पूर्ण बातों ने।तुम उठी ये कह कर कि-“अब बिरहा-अग्नि में जलने की जरुरत नहीं। मैंने ये निर्णय कर लिया है कि अब हम एक होंगें।” मैं भी उठा तुमने आलिंगन करना चाहा।
मेरी आँख खुल गयी मैं अपने बिस्तर पर लेटा मुस्कुरा रहा था।बड़ी मुश्किल से समझ पाया की ये एक स्वप्न था।
एक स्वप्न तुम्हारे साथ का।
-अनुपम राय’कौशिक’

173 Views
You may also like:
* जिंदगी हैं हसीन सौगात *
Dr. Alpa H.
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
पानी का दर्द
Anamika Singh
आदर्श ग्राम्य
Tnmy R Shandily
प्रार्थना
Anamika Singh
पिता
Kanchan Khanna
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
'मेरी यादों में अब तक वे लम्हे बसे'
Rashmi Sanjay
पानी यौवन मूल
Jatashankar Prajapati
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
सोए है जो कब्रों में।
Taj Mohammad
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
अरदास
Buddha Prakash
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
यह जिन्दगी है।
Taj Mohammad
तपिश
SEEMA SHARMA
सुमंगल कामना
Dr.sima
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
टूटता तारा
Anamika Singh
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
Loading...