Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

//एक सवाल//

क्यों करते हो आंख मिचौली,
मुझसे क्यों शर्माते हो।
दिल में क्या-क्या राज छुपाए,
अब तक नहीं बताते हो॥

माना एक गलतफहमी को,
हमने वर्षों पाला था।
पर तुमने भी कुछ बातें कर,
हमको भ्रम में डाला था॥
गुत्थी अब भी उलझी है,
जिसको न तुम सुलझाते हो।
दिल में क्या-क्या राज छुपाए,
अब तक नहीं बताते हो॥१॥

वर्षों से जो दबी हुई थी,
वह चिंगारी दहक उठी।
सुनकर मीठे बैन तुम्हारे,
प्रीति की बगिया महक उठी॥
अब सोए अरमान जगाकर
क्यों इतना तड़पाते हो।
दिल में क्या-क्या राज छुपाए,
अब तक नहीं बताते हो॥२॥

बिना तुम्हारी यादों के,
मुश्किल से जीना आया है।
मीठी-मीठी बातों से,
तुमने फिर से भरमाया है॥
चैन चुरा कर मौन हो गए,
‘अंकुर’ बड़ा सताते हो।
दिल में क्या-क्या राज छुपाए,
अब तक नहीं बताते हो॥३॥

– ✍️ निरंजन कुमार तिलक ‘अंकुर’
जैतपुर, छतरपुर मध्यप्रदेश

Language: Hindi
257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
!! यह तो सर गद्दारी है !!
!! यह तो सर गद्दारी है !!
Chunnu Lal Gupta
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*Author प्रणय प्रभात*
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
हाय गरीबी जुल्म न कर
हाय गरीबी जुल्म न कर
कृष्णकांत गुर्जर
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
कोई भी इतना व्यस्त नहीं होता कि उसके पास वह सब करने के लिए प
पूर्वार्थ
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
कहाँ है मुझको किसी से प्यार
gurudeenverma198
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
अधूरी बात है मगर कहना जरूरी है
नूरफातिमा खातून नूरी
समझ ना आया
समझ ना आया
Dinesh Kumar Gangwar
छोड़ दिया किनारा
छोड़ दिया किनारा
Kshma Urmila
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
मेरा नाम
मेरा नाम
Yash mehra
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
फुर्सत से आईने में जब तेरा दीदार किया।
Phool gufran
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
जो ये समझते हैं कि, बेटियां बोझ है कन्धे का
Sandeep Kumar
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
चांद सी चंचल चेहरा 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चोट शब्दों की ना सही जाए
चोट शब्दों की ना सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
वायरल होने का मतलब है सब जगह आप के ही चर्चे बिखरे पड़े हो।जो
Rj Anand Prajapati
Loading...