Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल

एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल पड़ जाने का ये अर्थ तो नहीं कि उनका आत्मसम्मान कहीं आहत हुआ है।

Paras Nath Jha

348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
लगाव का चिराग बुझता नहीं
लगाव का चिराग बुझता नहीं
Seema gupta,Alwar
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
बढ़ी हैं दूरियां दिल की भले हम पास बैठे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
"अभ्यास"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी औकात
मेरी औकात
साहित्य गौरव
भीमराव अम्बेडकर
भीमराव अम्बेडकर
Mamta Rani
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
*जो होता पेड़ रूपयों का (सात शेर)*
Ravi Prakash
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
कुछ मज़ा ही नही,अब जिंदगी जीने मैं,
गुप्तरत्न
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Janeu-less writer / Poem by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
नारी के हर रूप को
नारी के हर रूप को
Dr fauzia Naseem shad
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
प्यारा सा गांव
प्यारा सा गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अविश्वसनीय*
*अविश्वसनीय*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़रूरत
ज़रूरत
सतीश तिवारी 'सरस'
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
जंग के भरे मैदानों में शमशीर बदलती देखी हैं
Ajad Mandori
दो शे'र ( चाँद )
दो शे'र ( चाँद )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हम अक्षम हो सकते हैं
हम अक्षम हो सकते हैं
*Author प्रणय प्रभात*
3249.*पूर्णिका*
3249.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
रही प्रतीक्षारत यशोधरा
Shweta Soni
दर्द
दर्द
Bodhisatva kastooriya
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
स्वतंत्रता की नारी
स्वतंत्रता की नारी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हम कितने आँसू पीते हैं।
हम कितने आँसू पीते हैं।
Anil Mishra Prahari
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
मैं चल रहा था तन्हा अकेला
..
वक्त
वक्त
Shyam Sundar Subramanian
" चलन "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
Loading...