Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

एक सपना

एक सपना है ,

सच्चा सपना ,

उसमें ,

दूध भरा गिलास है ,

दाल- रोटी वाली थाली है ,

खाट है ,

कंबल- रजाई वाला ,

मटकी है, सुराही है ,

गुल्लक है ,

जो ,सिक्कों के

बोझ से

भारी, होती

जाती है ,

नींद है ,

उसमें ,आता रहता है ,

मीठा- मीठा सपना ,

अचछा लगा ना ,

मेरा सपना ,

तालाब खोदते

दोनो पति पत्नी

को,

उनके किशोर होते

बेटे ने,

बताया,

अपना सपना ।

2 Likes · 128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Punam Pande
View all
You may also like:
मेरी किस्मत
मेरी किस्मत
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*शिवजी का धनुष (कुंडलिया)*
*शिवजी का धनुष (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
जो रास्ते हमें चलना सीखाते हैं.....
कवि दीपक बवेजा
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
मैंने नींदों से
मैंने नींदों से
Dr fauzia Naseem shad
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
Dushyant Kumar
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
तू ही हमसफर, तू ही रास्ता, तू ही मेरी मंजिल है,
Rajesh Kumar Arjun
कैलेंडर नया पुराना
कैलेंडर नया पुराना
Dr MusafiR BaithA
💐प्रेम कौतुक-311💐
💐प्रेम कौतुक-311💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
इज्जत कितनी देनी है जब ये लिबास तय करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जीवन के सारे सुख से मैं वंचित हूँ,
जीवन के सारे सुख से मैं वंचित हूँ,
Shweta Soni
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
Sanjay ' शून्य'
2518.पूर्णिका
2518.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
यादों के झरने
यादों के झरने
Sidhartha Mishra
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूरी उम्र बस एक कीमत है !
पूर्वार्थ
"हृदय में कुछ ऐसे अप्रकाशित गम भी रखिए वक़्त-बेवक्त जिन्हें आ
दुष्यन्त 'बाबा'
पता नहीं कुछ लोगों को
पता नहीं कुछ लोगों को
*Author प्रणय प्रभात*
यही तो मजा है
यही तो मजा है
Otteri Selvakumar
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
मोहब्बत आज भी अधूरी है….!!!!
Jyoti Khari
"मैं और तू"
Dr. Kishan tandon kranti
भेंट
भेंट
Harish Chandra Pande
नयनों का वार
नयनों का वार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...