Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 2 min read

‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन……..

‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन……..
हर जीव का जनम मरण तय है जो जीव जन्म लिया है एक दिन उसकी मृत्यु निश्चित है फ़िर भी लोग माया मोह को छोड़ नही पाता इंसान का बच्चा बेटा जब जन्म लेता है तो इंसान लाख रुपये खुशी मे खर्च कर देता है क्युंकि उसको लगता है की मेरा बेटा हैं मेरा सहारा है और जब बेटी पैदा होती है तो लोग कहते है की मेरे घर की लक्ष्मी आ गई बेटा शादी करके बाप को छोड़ देता है और बेटी की जब डोली चली जाती है तो बाप बहुत रोता है क्युंकि अब उसको अहसास हुआ की मुझे पानी देनें वाला कोई नही है लेकिन बेटी अपने पिता के लिए हर दूसरे दिन आ कर उनकी देख रेख करके चली जाती है और बेटा वही पर रह कर यही कहता हैं की मेरे लिए किये क्या हो आप यह सोच सोच माता पिता दोनों अपना जीवन त्याग देते है और पिता के मृत्यु के बाद उनके नाम की सारी दौलत बेटे को मिल गया बेटी को कुछ नही मिल सका क्युंकि बेटी तो अब अपने ससुराल मे है उसका यहाँ कुछ नही बचा जब बेटा यह देखा तो बहुत रोया और अपनी बहन के घर जा कर उनसे माफी मांगी की बहन मुझे माफ कर दो बहन मुझे ऐसा नही करना चाहिए था

इसलिए साथियों माता पिता की सेवा करो और उनके आदर्शों का पालन करो और किसी के मर जाने पर मोह ना दिखाओ जो दिखाना है उनके जीते जी करो वरना सब बेकार है
ऋतुराज वर्मा

2 Likes · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त
वक्त
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
رَہے ہَمیشَہ اَجْنَبی
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
बेशक नहीं आता मुझे मागने का
shabina. Naaz
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के 4 प्रणय गीत
कवि रमेशराज
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
दिसम्बर की रातों ने बदल दिया कैलेंडर /लवकुश यादव
दिसम्बर की रातों ने बदल दिया कैलेंडर /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
संगीत सुनाई देता है
संगीत सुनाई देता है
Dr. Sunita Singh
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
केहरि बनकर दहाड़ें
केहरि बनकर दहाड़ें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
संविधान
संविधान
लक्ष्मी सिंह
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं  मैं।
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
Iran Revolution
Iran Revolution
Shekhar Chandra Mitra
दूजी खातून का
दूजी खातून का
Satish Srijan
■ ख़ास दिन, ख़ास बात, नज़्म के साथ
■ ख़ास दिन, ख़ास बात, नज़्म के साथ
*Author प्रणय प्रभात*
2676.*पूर्णिका*
2676.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
सीख का बीज
सीख का बीज
Sangeeta Beniwal
मन सीत मीत दिलवाली
मन सीत मीत दिलवाली
Seema gupta,Alwar
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
ये आकांक्षाओं की श्रृंखला।
Manisha Manjari
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
एक शेर
एक शेर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
*आठ माह की अद्वी प्यारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मौन शब्द
मौन शब्द
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
💐💐साधने अपि लोभ: न करोतु💐💐
💐💐साधने अपि लोभ: न करोतु💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...