Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2016 · 1 min read

एक मुलाकात(लघु कथा)

“एक मुलाकात”

“साई”फिर से वो गली से निकली और मै छुप कर देख रहा था कि मै उस को दिखूं ना तो उस के चहरे के हाव बाव कैसे होंगे। लेकिन जब मैने उस को देखा वो आँखे वो चहरा में देखता ही रह गया।सच में वो आँखे मुझे ही ढूढ रही थी।तभी अचानक से उस की नजर मुझ पर पड़ ही गई। फिर उसके चहरे पर एक खूबसूरत मुस्कान आई।वो थी मुझे देख कर।उस वक़्त उस का चहरा एक दम से खिल गया हो।मानो जैसे सुबह की पहली किरण हो।फिर मै उस के पास गया और हम चाये पिने के हम ओटो में निकले। फिर हम ने वहाँ बहुत सारी बाते की और आज वो हर रोज की तरह मेरे लिए कुछ ना कुछ ले कर आई हुई थी।वो आज अमरुद और लड्डू अपने साथ ले कर आई थी।सिर्फ मुझे खिलने के लिए।हम ने खूब बाते की और वो आज फिर हर रोज की तरह खूबसूरत लग रही थी।फिर मै उस को घर पर छोड़ने को निकला और हम बात करते हुए घर निकले । फिर मै निरास मन से उस की तरफ देख रहा था। की आज फिर वो मुझ से दूर जा रही है।उस वक़्त मेरी आँखे झुकी हुई थी और चहरा गिरा हुआ।ये सब उस से दूर होने का कारण था।

मंदीपसाई

Language: Hindi
470 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शर्म करो
शर्म करो
Sanjay ' शून्य'
कविता
कविता
Shiva Awasthi
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
चंद्रयान 3 ‘आओ मिलकर जश्न मनाएं’
Author Dr. Neeru Mohan
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
इंडियन सेंसर बोर्ड
इंडियन सेंसर बोर्ड
*प्रणय प्रभात*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
*मस्ती बसती है वहॉं, मन बालक का रूप (कुंडलिया)*
*मस्ती बसती है वहॉं, मन बालक का रूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
शादी होते पापड़ ई बेलल जाला
आकाश महेशपुरी
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
60 के सोने में 200 के टलहे की मिलावट का गड़बड़झाला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोपहर जल रही है सड़कों पर
दोपहर जल रही है सड़कों पर
Shweta Soni
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
अस्तित्व
अस्तित्व
Shyam Sundar Subramanian
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
दीपक नील पदम् { Deepak Kumar Srivastava "Neel Padam" }
उत्तर
उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
वर्षा ऋतु के बाद
वर्षा ऋतु के बाद
लक्ष्मी सिंह
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
यह मत
यह मत
Santosh Shrivastava
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
राह दिखा दो मेरे भगवन
राह दिखा दो मेरे भगवन
Buddha Prakash
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
बर्फ़ के भीतर, अंगार-सा दहक रहा हूँ आजकल-
Shreedhar
"तुम इंसान हो"
Dr. Kishan tandon kranti
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
राम नाम अतिसुंदर पथ है।
Vijay kumar Pandey
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
3669.💐 *पूर्णिका* 💐
3669.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
Loading...