Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प

एक महिला जिससे अपनी सारी गुप्त बाते कह देती है वह उसे बेहद प्यार करती है और उसमें ही अपना जीवन देखती है।
RJ Anand Prajapati

166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"तब तुम क्या करती"
Lohit Tamta
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
जिसे तुम ढूंढती हो
जिसे तुम ढूंढती हो
Basant Bhagawan Roy
2819. *पूर्णिका*
2819. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
ये शिकवे भी तो, मुक़द्दर वाले हीं कर पाते हैं,
Manisha Manjari
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
दोहा- बाबूजी (पिताजी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Window Seat
Window Seat
R. H. SRIDEVI
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
नया है रंग, है नव वर्ष, जीना चाहता हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
Wait ( Intezaar)a precious moment of life:
पूर्वार्थ
......?
......?
शेखर सिंह
"सूर्य -- जो अस्त ही नहीं होता उसका उदय कैसे संभव है" ! .
Atul "Krishn"
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
VINOD CHAUHAN
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
एक मंज़र कशी ओस के संग 💦💦
एक मंज़र कशी ओस के संग 💦💦
Neelofar Khan
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
तन्हाई में अपनी परछाई से भी डर लगता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खुद को भी
खुद को भी
Dr fauzia Naseem shad
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
किताबों में झुके सिर दुनिया में हमेशा ऊठे रहते हैं l
Ranjeet kumar patre
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
सत्यता वह खुशबू का पौधा है
प्रेमदास वसु सुरेखा
रामकृष्ण परमहंस
रामकृष्ण परमहंस
Indu Singh
.
.
Ragini Kumari
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
मैं उड़ना चाहती हूं
मैं उड़ना चाहती हूं
Shekhar Chandra Mitra
सर्द रातें
सर्द रातें
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
हरियाणा दिवस की बधाई
हरियाणा दिवस की बधाई
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...