Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

एक बेवफा का प्यार है आज भी दिल में मेरे

एक बेवफा का प्यार है आज भी दिल में मेरे
जिंदगी की हार है आज भी दिल में मेरे

मुझसे पुछोगे अगर तो मैं कहूँगा बस यही
खुद से गिले दो-चार है आज भी दिल में मेरे

रास्तों पर मैं अकेला चल सकूंगा या नहीं
सोचना बेकार है सब आज भी दिल में मेरे

कोई कहे मुझसे अगर हमसफ़र बन जाऊँगा
तो भी बस इन्कार है आज भी दिल में मेरे

मैं कहाँ जाऊँगा ये तो खुद नहीं मैं जानता
बिखरा सा संसार है आज भी दिल में मेरे

हर घड़ी उनका हमें आ ही जाता है खयाल
यादें ही गुलजार हैं आज भी दिल में मेरे

‘V9द’को ठोकर लगी इस जहां में हर कदम
पर वही एतबार है आज भी दिल में मेरे

स्वरचित
V9द चौहान

2 Likes · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
Ajay Kumar Vimal
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
इस राष्ट्र की तस्वीर, ऐसी हम बनायें
इस राष्ट्र की तस्वीर, ऐसी हम बनायें
gurudeenverma198
मुहब्बत
मुहब्बत
बादल & बारिश
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
मोहब्बत का मेरी, उसने यूं भरोसा कर लिया।
इ. प्रेम नवोदयन
सन्देश खाली
सन्देश खाली
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाग़ी
बाग़ी
Shekhar Chandra Mitra
दीवार
दीवार
अखिलेश 'अखिल'
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Neeraj Mishra " नीर "
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
Hey....!!
Hey....!!
पूर्वार्थ
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
शेखर सिंह
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
कब तक यही कहे
कब तक यही कहे
मानक लाल मनु
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
*स्वतंत्रता सेनानी श्री शंभू नाथ साइकिल वाले (मृत्यु 21 अक्ट
Ravi Prakash
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
*यह  ज़िंदगी  नही सरल है*
*यह ज़िंदगी नही सरल है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
जंग जीत कर भी सिकंदर खाली हाथ गया
VINOD CHAUHAN
*क्रोध की गाज*
*क्रोध की गाज*
Buddha Prakash
सच तो आज न हम न तुम हो
सच तो आज न हम न तुम हो
Neeraj Agarwal
छोटे-मोटे कामों और
छोटे-मोटे कामों और
*प्रणय प्रभात*
Loading...