Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2023 · 1 min read

एक बेटी की अनुभूति पापा के लिए

मैं जब मां की कोख में आई थी
पापा के चेहरे पर खुशी छाई थी

सबकी बेटे के लिए फरमाइश थी
बेटी चाहिए पापा की ख्वाहिश थी

मेरे जन्म लेने पर सभी उदास थे
सिर्फ मेरे पापा ही मेरे पास थे

पापा ने अपनी खुशी यूं बांटी थी
अपनी क्षमतानुसार मिठाई बांटी थी

सारे परिवार ने पापा से नाराजगी दिखाई
बेटे की चाहत थी फिर बेटी क्यों आई

मां को मेरे पैदा होने का दोषी बताया
बेटा पैदा ना होने का दुख जताया

मां पापा को घर से निकाल दिया
मेरे होने का उनसे यूं बदला लिया

धीरे धीरे मैं बड़ी होने लगी
तरह तरह के सपनों में खोने लगी

एक दिन जब मैंने खिलौना मांगा था
हंस कर पापा ने साईकल पर झोला टांगा था

शाम को पापा खिलौना लेकर आये थे
पता नही क्यों वापिस पैदल ही आये थे

मेरे जन्मदिन पर मुझे दिया एक गहना था
पापा ने उस दिन भी पुराना कुर्ता पहना था

मुझे खुश रखने की भरपूर कोशिश करते थे
मुहं छिपा कर चुपके छुपके रोया भी करते थे

अब मैं भी पापा के प्यार को समझने लगी हूँ
अब फरमाइश नही करती बस पढ़ने लगी हूँ

एक दिन पढ़ लिख कर बड़ा अफसर बनना है
पापा की खुशियां लौटा सकूँ बस यही सपना है

Language: Hindi
285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
आचार, विचार, व्यवहार और विधि एक समान हैं तो रिश्ते जीवन से श
विमला महरिया मौज
मन की परतों में छुपे ,
मन की परतों में छुपे ,
sushil sarna
मैं गहरा दर्द हूँ
मैं गहरा दर्द हूँ
'अशांत' शेखर
स्मृति प्रेम की
स्मृति प्रेम की
Dr. Kishan tandon kranti
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
हम जो कहेंगे-सच कहेंगे
Shekhar Chandra Mitra
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
है यही मुझसे शिकायत आपकी।
सत्य कुमार प्रेमी
फ़ासले जब भी
फ़ासले जब भी
Dr fauzia Naseem shad
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
* तुम न मिलती *
* तुम न मिलती *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पता नहीं था शायद
पता नहीं था शायद
Pratibha Pandey
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
पर्यावरणीय सजगता और सतत् विकास ही पर्यावरण संरक्षण के आधार
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
Shreedhar
कविता बाजार
कविता बाजार
साहित्य गौरव
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
तुम कहते हो की हर मर्द को अपनी पसंद की औरत को खोना ही पड़ता है चाहे तीनों लोक के कृष्ण ही क्यों ना हो
$úDhÁ MãÚ₹Yá
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
चंद्रशेखर आज़ाद जी की पुण्यतिथि पर भावभीनी श्रद्धांजलि
Dr Archana Gupta
असली नकली
असली नकली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक एक ख्वाहिशें आँख से
एक एक ख्वाहिशें आँख से
Namrata Sona
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ आप भी करें कौशल विकास।😊😊
■ आप भी करें कौशल विकास।😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
पूर्वार्थ
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
खतरनाक आदमी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
Loading...