Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2021 · 3 min read

एक बार बोल क्यों नहीं

आज भी विवेक वहीं रास्ता से बाजार से घर जाना पसंद करता है क्योंकि उस रास्ते में वह एक बार किसी का झलक पाना चाहता है । कहीं दिख जा – कहीं दिख जा ,यद्यपि वह रास्ता विवेक के लिए लंबा ही पड़ता है, घर जाने के लिए लेकिन उसका एहसास रत्ती भर भी उसे मन में नहीं होता था। उस रास्ता में विवेक मधुर संगीत की ध्वनि बहुत प्रेम से सुन पाता था,कहीं पर सोनार दुकान की आभूषण बनाने का मीठा सा सुर हो,कहीं पर रजिया – तोशक बनाने वाला गीतार की आवाज या डिस्को डांसर वाला लोहार की दुकान पर हथोड़ा मारने का सुर । विवेक का पसंदीदा गाना में से
एक गाना था।

“घर से निकलते ही,

कुछ दूर चलते ही

रस्ते में है उसका घर…

कल सुबह देखा तो

बाल बनाती वो…

खिड़की में आयी नज़र…

विवेक एक सुगठित शरीर वाला जवान लड़का है जो दो साल पहले ही अपनी महाविद्यालय से बी. ए (इंगलिश) पहला दर्जा से पास कर चुका है।

विवेक जिसकी एक झलक पाने के लिए उस रास्ता का
चुनाव करता है । वह स्कूल से ही उसे पहचानता था- रिंकी। रिंकी और विवेक एक स्कूल से पास कर महाविद्यालय पहुंचे थे । विषय भी इंग्लिश रहने के कारण नोट का लेन- देने भी कभी – कभी हो जाती थी जिसमें विवेक भीतर ही भीतर आनंद का अनुभव करत था । स्कूल के समय से विवेक, रिंकू को छुप – छुप कर देखना पसंद करता था।जब कभी भी दोनों की आंखें एक दूसरे लड़ जाती थी , दोनों शर्मा के एक
-दूसरे का प्रेम का राजा मंदी भरोसा भी देती थी।कल्पनाएं और आशाएं से भरा प्यार स्कूल से महाविद्यालय तक पहुंच चुका था।
एक प्रेमी हमेशा के लिए प्रेमी के रूप में नहीं रह सकता है ।विवेक एक तरफ प्रेम नहीं था रिंकी भी छुप छुप कर देखना पसंद करती थी लेकिन दोनों एक दूसरे से बोले में एक अच्छा मौके के तलाश में महाविद्यालय से पास कर के भी निकल गए किन्तु अपने अनुभूति के बारे में रिंकी को बता ही नहीं पाता है ।लगातार कोरोना के महामारी , कर्फ्यू जैसा माहौल के चलते
वह घर से निकाल ही नहीं पा रहा था लॉकडाउन से कुछ राहत के बाद, विवेक घर के कुछ काम से बाजार गया ।वह आज किशोर का गाना धुन गाते – गाते जा रहा था कि आज एक झलक रिंकी का मिल जाता तो कोरोना वायरस बाजार में उसका कुछ कर नहीं पाएगा और उसका दिन भी बन जाएगा । विवेक तो मानो हक्का – बक्का रह जाता है अब तो उसका सुर लग ही नहीं पा रहा था बहुत तन छेड़ने के बाद मार्मिक और करुणा सुर लगा वही रफीक का पुरानागीत ……………… । रिंकी की शादी हो चुकी थी और रिंकी की विदाई का कार्यक्रम जो चल रहा था , विवेक अपने को समझा नहीं पा रहा था यह क्या हो गया ? और सोच रहा था कि एक बार वह उसके प्रति अपनी अनुभूति को एक बार क्यों नहीं बोला ? वह तड़प रहा था उसकी एक नजर पाने के लिए वह आज इतना दिनों बाद बाजार से घर निकला था और उससे मुलाकात हुई और उसकी बारात भी निकल रही थी। रिंकी को देखकर भी अनदेखा करना पड़ा शायद ,वहां पर लोगो की भीड़ थी। दोनों के आंखों में आंसू छलक रहा था । क्या अनदेखा सा मुलाकात था विवेक का यह समय काटे नहीं कट रहा था। वह एकटक कठपुतली की तरह वहां खड़ा रह गया और सोचा की एक बार भी रिंकी को क्यों नहीं बोला।अब तो यादों को सहज कर रखना पड़ेगा । हर किसी को बुरे वक़्त से निकलना है तो आगे तो चलना ही पड़ता है।

आज भी विवेक वही रास्ता से जाना पसंद करता है लेकिन अब विवेक को मधुर नहीं विरह का गाना सुनाई देता है और लगता कहीं दिख जाए -कहीं दिख जाए एक झलक और मन में सद ये बात सताती है कि एक बार बोल क्यों नहीं ।।

गौतम साव

4 Likes · 12 Comments · 826 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from goutam shaw
View all
You may also like:
पंचांग (कैलेंडर)
पंचांग (कैलेंडर)
Dr. Vaishali Verma
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
ਐਵੇਂ ਆਸ ਲਗਾਈ ਬੈਠੇ ਹਾਂ
Surinder blackpen
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
दूर हो गया था मैं मतलब की हर एक सै से
कवि दीपक बवेजा
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
👍👍👍
👍👍👍
*प्रणय प्रभात*
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
विचार, संस्कार और रस [ एक ]
कवि रमेशराज
2556.पूर्णिका
2556.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चाहे मेरे भविष्य मे वह मेरा हमसफ़र न हो
चाहे मेरे भविष्य मे वह मेरा हमसफ़र न हो
शेखर सिंह
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
सारंग-कुंडलियाँ की समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
"तेरी यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
पीठ के नीचे. . . .
पीठ के नीचे. . . .
sushil sarna
जीवन यात्रा
जीवन यात्रा
विजय कुमार अग्रवाल
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक - यूं ही कोई किसी को बुलाता है क्या।
मुक्तक - यूं ही कोई किसी को बुलाता है क्या।
सत्य कुमार प्रेमी
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
प्रेम का पुजारी हूं, प्रेम गीत ही गाता हूं
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
यादों की सफ़र
यादों की सफ़र"
Dipak Kumar "Girja"
समय और स्त्री
समय और स्त्री
Madhavi Srivastava
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
Loading...