Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह

बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
तुम भी प्रीति बनोगे क्या ?
हाँ पता हैं!!!! शादी हों गयीं हैं तुम्हारी
एक बार फ़िर से चॉकलेट खाने चलोगे क्या ?

1 Like · 105 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
Aniruddh Pandey
रंग रंगीली होली आई
रंग रंगीली होली आई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
इंसान हूं मैं आखिर ...
इंसान हूं मैं आखिर ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
*नश्वर यह देह जगत् सारा, मन में यह बारंबार रहे (घनाक्षरी)*
*नश्वर यह देह जगत् सारा, मन में यह बारंबार रहे (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
उस पथ पर ले चलो।
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
*** आप भी मुस्कुराइए ***
*** आप भी मुस्कुराइए ***
Chunnu Lal Gupta
I am always in search of the
I am always in search of the "why",
Manisha Manjari
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/117.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"ठीक है कि भड़की हुई आग
*Author प्रणय प्रभात*
,,........,,
,,........,,
शेखर सिंह
ऐसा कहा जाता है कि
ऐसा कहा जाता है कि
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
मनोज कर्ण
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
बेवफा मैं कहूँ कैसे उसको बता,
Arvind trivedi
आप इसे पढ़ें या न पढ़ें हम तो बस लिखते रहेंगे ! आप सुने ना सुन
आप इसे पढ़ें या न पढ़ें हम तो बस लिखते रहेंगे ! आप सुने ना सुन
DrLakshman Jha Parimal
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
💐प्रेम कौतुक-557💐
💐प्रेम कौतुक-557💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होली
होली
Neelam Sharma
बोझ हसरतों का - मुक्तक
बोझ हसरतों का - मुक्तक
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यारा  तुम  बिन गुजारा नही
यारा तुम बिन गुजारा नही
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Teri gunehgar hu mai ,
Teri gunehgar hu mai ,
Sakshi Tripathi
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
अगर आपमें मानवता नहीं है,तो मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप क
विमला महरिया मौज
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
दौलत नहीं, शोहरत नहीं
Ranjeet kumar patre
हादसे पैदा कर
हादसे पैदा कर
Shekhar Chandra Mitra
Loading...