Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

एक प्यार का नगमा

क्यों प्रेम विरह में, हम सताये जा रहे हैं
एक प्यार का नगमा, हम गाये जा रहें हैं।

मौसम कभी ना कभी, बदल ही तो जायेगी
जवानी कभी ना कभी, ढल ही तो जायेगी
जीवन को उलझन में, उलझाये जा रहे हैं
एक प्यार………….

प्रेम तो सबको, किसी ना किसी से होता ही है
प्रेम को निभाना भी, तो कठिन होता ही है
फिर क्यों एक दूजे से, लड़ाए जा रहे हैं।
एक प्यार……………..

सही गलत तो सब, सोचते समझते भी हैं
फिर अपने आप को, क्यूं नही बदलते भी हैं
बस यूं ही जीवन को, गवाए जा रहे हैं।
एक प्यार…………..

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
1 Like · 458 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गांधी जी के आत्मीय (व्यंग्य लघुकथा)
गुमनाम 'बाबा'
// माँ की ममता //
// माँ की ममता //
Shivkumar barman
सिकन्दर बन कर क्या करना
सिकन्दर बन कर क्या करना
Satish Srijan
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
दासता
दासता
Bodhisatva kastooriya
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
चोर उचक्के सभी मिल गए नीव लोकतंत्र की हिलाने को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
बेटियां
बेटियां
Nanki Patre
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
बंगाल में जाकर जितनी बार दीदी,
बंगाल में जाकर जितनी बार दीदी,
शेखर सिंह
"पिता दिवस: एक दिन का दिखावा, 364 दिन की शिकायतें"
Dr Mukesh 'Aseemit'
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
चल फिर इक बार मिलें हम तुम पहली बार की तरह।
Neelam Sharma
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Mishra " नीर "
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
शादी अगर जो इतनी बुरी चीज़ होती तो,
पूर्वार्थ
2900.*पूर्णिका*
2900.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
*** मेरे सायकल की सवार....! ***
VEDANTA PATEL
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
बिन फ़न के, फ़नकार भी मिले और वे मौके पर डँसते मिले
Anand Kumar
निंदा
निंदा
Dr fauzia Naseem shad
पसीने वाली गाड़ी
पसीने वाली गाड़ी
Lovi Mishra
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...