Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

एक पेड़ का दर्द

धूप सहकर मैं कड़ी, शीतल छांव देता हूं
ठंड वर्षा के थपेड़े, सब झेल लेता हूं
लेता हूं तेरी हर बला, जीवन प्राण देता हूं
देता हूं फल फूल मीठे, छप्पर ‌डाल देता हूं
भोजन में तेरा पकाने, प्राण देता हूं
जीता हूं तेरे लिए, मरता हूं तेरे लिए
तेरी इस जीवन नैया को मनुज, मैं ही चलाता हूं
घर बनाता हूं ,तेरा चूल्हा जलाता हूं
पालना बनता हूं मैं, झूला झुलाता हूं
बनता हूं खटिया पलंग, चैन से मैं सुलाता हूं
बनकर हल बैलगाड़ी, अन्न मैं ही उगाता हूं
जन्म से हूं मरण तक, शव मैं ही जलाता हूं
लगते हैं बरसों बरस, मुझे एक पेड़ बनने में
कितनी बेदर्दी से मुझे, पल में काट देते हो
मैं तो हूं बेजुबान, ये दर्द में किससे कहूं
सदियों से सहता रहा, और कितना मैं सहूं
एक बात सुनलो मेरी, कान अपने खोलकर
अस्तित्व न मेरा मिटाना, जा रहा हूं बोलकर
मेरे बगैर जीवन न होगा, कहता हूं कर जोड़ कर

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 679 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
वेदनामृत
वेदनामृत
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
हिंदी दिवस
हिंदी दिवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
*वंदनीय सेना (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद*
*वंदनीय सेना (घनाक्षरी : सिंह विलोकित छंद*
Ravi Prakash
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
अर्थी चली कंगाल की
अर्थी चली कंगाल की
SATPAL CHAUHAN
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
प्रीत को अनचुभन रीत हो,
पं अंजू पांडेय अश्रु
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
"रुपया"
Dr. Kishan tandon kranti
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
अफ़सोस
अफ़सोस
Dipak Kumar "Girja"
जब आओगे तुम मिलने
जब आओगे तुम मिलने
Shweta Soni
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुदा एहि
मुदा एहि "डिजिटल मित्रक सैन्य संगठन" मे दीप ल क' ताकब तथापि
DrLakshman Jha Parimal
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
2378.पूर्णिका
2378.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"तानाशाही" की आशंका खत्म, "बाबूशाही" की शुरू। वजह- "चन्द्र ब
*प्रणय प्रभात*
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
आप और हम जीवन के सच............. हमारी सोच
Neeraj Agarwal
बारिश
बारिश
Punam Pande
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
पहले जो मेरा यार था वो अब नहीं रहा।
पहले जो मेरा यार था वो अब नहीं रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
बुरा न मानो, होली है! जोगीरा सा रा रा रा रा....
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
कृष्ण कुमार अनंत
कृष्ण कुमार अनंत
Krishna Kumar ANANT
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...