Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2022 · 1 min read

*एक पुराना तन*

एक पुराना तन,
अंतिम राह तलाशता,
एक पुराना मन,
जो जीना चाहता है,
खुलकर अपनी जिंदगी,
ये आंखे,
हाथ,पाँव सब थके हुए,
फिर भी मन
बचपन की,
किलकारी मरता है,
हा एक छण के लिए,
वह अपनी अवस्था,
भूल जाता,
मन करता है,
किलकारी अंतिम ही हो,
कान थक चुके,
सुन-सुनकर,
कि बूढ़े की मति मारी गई,
आजकल मेरे संस्कार,
घर के एक कोने में रो रहे,
एक पुराना तन,
अपनी अंतिम राह तलाशता।।@निल

Language: Hindi
2 Likes · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फागुन
फागुन
Punam Pande
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
कन्या रूपी माँ अम्बे
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
■ विशेष व्यंग्य...
■ विशेष व्यंग्य...
*Author प्रणय प्रभात*
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
आज कल रिश्ते भी प्राइवेट जॉब जैसे हो गये है अच्छा ऑफर मिलते
Rituraj shivem verma
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
'अशांत' शेखर
भगवान महाबीर
भगवान महाबीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
💐प्रेम कौतुक-416💐
💐प्रेम कौतुक-416💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भिनसार हो गया
भिनसार हो गया
Satish Srijan
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंतज़ार मिल जाए
इंतज़ार मिल जाए
Dr fauzia Naseem shad
मंदिर जाना चाहिए
मंदिर जाना चाहिए
जगदीश लववंशी
"आए हैं ऋतुराज"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
“नया मुकाम”
“नया मुकाम”
DrLakshman Jha Parimal
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
पति की खुशी ,लंबी उम्र ,स्वास्थ्य के लिए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
गिरगिट को भी अब मात
गिरगिट को भी अब मात
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
भारी लोग हल्का मिजाज रखते हैं
कवि दीपक बवेजा
Loading...