Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा

एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
आसान सी शर्तों पे जिया जाए तो कैसा

59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
*How to handle Life*
*How to handle Life*
Poonam Matia
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
किसी को घर, तो किसी को रंग महलों में बुलाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"तिकड़मी दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मौत
मौत
Harminder Kaur
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
तुम वोट अपना मत बेच देना
तुम वोट अपना मत बेच देना
gurudeenverma198
न काज़ल की थी.......
न काज़ल की थी.......
Keshav kishor Kumar
उसको फिर उससा
उसको फिर उससा
Dr fauzia Naseem shad
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
लोककवि रामचरन गुप्त के रसिया और भजन
कवि रमेशराज
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
*पाओगे श्रीकृष्ण को, मोरपंख के साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह
श्री रामचरितमानस में कुछ स्थानों पर घटना एकदम से घटित हो जाती है ऐसे ही एक स्थान पर मैंने यह "reading between the lines" लिखा है
SHAILESH MOHAN
.
.
*प्रणय प्रभात*
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
देखें क्या है राम में (पूरी रामचरित मानस अत्यंत संक्षिप्त शब्दों में)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
- आम मंजरी
- आम मंजरी
Madhu Shah
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
वक्त
वक्त
Namrata Sona
कभी-कभी
कभी-कभी
Ragini Kumari
2638.पूर्णिका
2638.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
क़यामत ही आई वो आकर मिला है
Shweta Soni
The Journey of this heartbeat.
The Journey of this heartbeat.
Manisha Manjari
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
* गीत कोई *
* गीत कोई *
surenderpal vaidya
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
ठहराव सुकून है, कभी कभी, थोड़ा ठहर जाना तुम।
Monika Verma
Loading...