Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Oct 2022 · 1 min read

एक दिया जलाये

एक दीया जलाए –

चलो आज एक दीया जलाए राम राज्य की अलख जगाए।।

तमस अंधकार मिटाए चलो एक दीया जलाए राम राज्य की अलख जगाए।।

ज्ञान कि ज्योति मन बुद्धि का प्रकाश चलो आज एक दीया जलाए राम राज्य की अलख जगाए ।।

द्वेष घृणा त्यागे मिटे बैर भाव का अंधकार चलो आज एक दीया जलाए राम राज्य की अलख जगाए।।

दुःख दरिद्रता ना आवे पास सम भाव का युग निर्माण चलो आज एक दीया जलाए रामराज्य का अलख जगाए ।।

शुख शांति बैभव कि लक्ष्मी पूजन वंन्दन ऋद्धि सिद्धि कि गणपति आराधना जीवन का धन धान्य चलो आज एक दीया जलाए राम राज्य का अलख जगाए।।

संस्कृति संस्कार का दीपक मर्यादा मूल्यों कि बाती भावों का घृत तेल प्रेम परस्पर कि लौ जलाए चलो आज एक दीया जलाए राम राज्य कि अलख जलाए।।

मानव मूल्यों का उत्सव सत्य जीत असत्य हार जीवन अंधकार पथ का उजियार चलो एक दीया जलाए राम राज्य कि अलख जगाए।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उतर प्रदेश।।

Language: Hindi
1 Like · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"कोरा कागज"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
Vivek Pandey
भ्रम
भ्रम
Kanchan Khanna
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
परम्परा को मत छोडो
परम्परा को मत छोडो
Dinesh Kumar Gangwar
3340.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3340.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
इंडिया ने परचम लहराया दुनियां में बेकार गया।
इंडिया ने परचम लहराया दुनियां में बेकार गया।
सत्य कुमार प्रेमी
इश्क़ से अपने कुछ चुने लम्हें
इश्क़ से अपने कुछ चुने लम्हें
Sandeep Thakur
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
जो पड़ते हैं प्रेम में...
जो पड़ते हैं प्रेम में...
लक्ष्मी सिंह
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
हर एक शक्स कहाँ ये बात समझेगा..
कवि दीपक बवेजा
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
🌹🌹🌹फितरत 🌹🌹🌹
umesh mehra
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
कुछ इस तरह टुटे है लोगो के नजरअंदाजगी से
पूर्वार्थ
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
दिल पागल, आँखें दीवानी
दिल पागल, आँखें दीवानी
Pratibha Pandey
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
!........!
!........!
शेखर सिंह
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
लोकतंत्र का मंदिर
लोकतंत्र का मंदिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हो जाती है साँझ
हो जाती है साँझ
sushil sarna
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
Loading...