Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 3 min read

एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.

एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई और बोली मैं तुझे बहुत दिनों से देख रही हूँ तो बहुत मेहनती,हमेशा कुछ न कुछ करता रहता हैं.सफल होने के लिये, मैं समझ गई तू मुझे बहुत प्यार करता हैं,मैं बोला,हाँ,तुझे पाने के लिए में कुछ भी करूँगा, सफलता बड़े उत्साह से बोली. मैं तुझे मिल जाऊँगी, लेकिन उसके लिए तुझे मेरे पिता(मेहनत) व दो भाइयों( प्रयास),व ( विश्वास) से बात करनी होगी,मैं सफलता से बोला तुझे पाने के लिए कुछ भी कर सकता हूँ.सफलता मेरे से बोली जितना तू बेचैन हैं उतनी मैं भी हूँ तुझे पाने को, लेकिन पहले उन से बात तो कर, वे मान गये तो तू मेरा मैं तेरी.अगले दिन
मैं तैयार होकर चल दिया सफलता के घर, सफलता के घर वालों ने मेरा अच्छे से स्वागत किया और आने का कारण पूछा मैंने सब कुछ बता दिया.मैं आपकी बेटी सफलता से प्यार करता हूँ,सफलता के पिता( मेहनत) ने मेरे को एक पर्ची दी और कहा इस पर्ची में कुछ लिखा हैं और एक हफ़्ते बाद आना और जो इस पर्ची में लिखा हैं अगर तुम सही-सही सुना दोंगे,फिर सफलता तुम्हारी हो जायेगी.मैं उस पर्ची को लेकर बड़ा ही उत्साही था जैसे ही घर से बाहर निकला सबसे पहले उस पर्ची को खोल कर पढ़ा. उस पर्ची में “सफलता के बीस सूत्र” लिखे थे.१. मैं एक सफल इंसान हूँ. २.अपने आपको छोटा ना समझे ३. दूसरों को कभी भी नीचा न दिखायें ४.दृढ़ निश्चयी बने.५. चैलेंज स्वीकार करे ६. प्रतियोगी बनें. ७.आत्म विश्वास बढ़ायें ८.अपने से छोटे से भी सीख लें ९. सफलता का सम्मान करे.१०.दूसरों के दुःखों में साथ दे. ११.महान व्यक्तियों की जीवनी पढ़े. १२.अपने से बड़ो का आदर करे, छोटो को प्रोत्साहित करें.१३. सकारात्मक विचार रखें १४.लक्ष्य एक होना चाहिये, लक्ष्य मिलने पर आकर बड़ा कर दें. १५. ज़िंदगी में कुछ करना हैं दिल से लगा लो. १६.मूल्यवान शब्द में बहुत ताकत हैं मूल्यवान बने. १७. हँसना और हँसाना सीखे. १८. ये सोच कर चलो हर समस्या का समाधान हैं. १९. रीजन होना चाहिये, रीजन नहीं हैं कुछ भी संभव नहीं हैं.२०.अपनी सोच की क्षमता को बढ़ाओ.पर्ची को पढ़ कर बड़ा ही अच्छा लगा वाक़ई बड़ा ही सुंदर लिखा हैं.मैं दो दिन बाद ही सब याद करके सफलता के घर पहुँच गया. आज घर पर पिता जी नहीं थे, सफलता के दोनों भाइयों प्रयास और विश्वास ने आने का कारण पूछा, मैंने सब कुछ बता दिया, मैं मन ही मन सोचने लगा सफलता के पिता ने दोनों बेटों को नहीं बताया,विश्वास एक दम गुस्से में बोला तेरी हिम्मत कैसे हो गई,मैं कुछ कह पता इतने में ही सफलता के पिता जी आ गये और सब शांत करने के बाद आने का कारण पूछा, मैं बोला ,जी आपने जो पर्ची दी थी मैंने सब कुछ याद कर लिया और मैंने सब कुछ सुना दिया. दोनों भाइयों ने व पिता जी ने सफलता को मेरे साथ विदा किया और सफलता के पिता ने एक और बात कही बेटा आज से सफलता तुम्हारी हैं इसका अच्छे से ख़्याल रखना,हाँ,एक बात और कभी किसी का मन मत दुखाना( कम खा लेना गम खा लेना,पुण्य का पैसा कमाना पाप का नहीं).

Language: Hindi
397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
जंगल में सर्दी
जंगल में सर्दी
Kanchan Khanna
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
सफर में जब चलो तो थोड़ा, कम सामान को रखना( मुक्तक )
सफर में जब चलो तो थोड़ा, कम सामान को रखना( मुक्तक )
Ravi Prakash
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
■ प्रभात चिंतन...
■ प्रभात चिंतन...
*प्रणय प्रभात*
होता नहीं कम काम
होता नहीं कम काम
जगदीश लववंशी
मिट्टी की खुश्बू
मिट्टी की खुश्बू
Dr fauzia Naseem shad
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
नाथ सोनांचली
भाई
भाई
Kanchan verma
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
जन्नत का हरेक रास्ता, तेरा ही पता है
Dr. Rashmi Jha
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढते हैं ।
Phool gufran
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
माफ करना मैडम हमें,
माफ करना मैडम हमें,
Dr. Man Mohan Krishna
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
श्री गणेश का अर्थ
श्री गणेश का अर्थ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
Shubham Pandey (S P)
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
दिल को एक बहाना होगा - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
घनाक्षरी
घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
So many of us are currently going through huge energetic shi
So many of us are currently going through huge energetic shi
पूर्वार्थ
वो परिंदा, है कर रहा देखो
वो परिंदा, है कर रहा देखो
Shweta Soni
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
कभी मायूस मत होना दोस्तों,
Ranjeet kumar patre
जब तक दुख मिलता रहे,तब तक जिंदा आप।
जब तक दुख मिलता रहे,तब तक जिंदा आप।
Manoj Mahato
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
सियासत कमतर नहीं शतरंज के खेल से ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...