Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

“एक थी इ”

एक थी ‘इ’
चुलबुली अल्हड़ शोख
हंसती तो जैसे चूड़ियाँ खनक जातीं
और एक था ‘क’
शांत ,सहज।
वो उसके आगे वाली गली में रहता था।
जब वो निकलती उस गली से
वो ताकता रहता उसे,,,,
भरता रहता आहें
जब छूता उसका दुपट्टा
उसके चेहरे को!
उसकी भीनी खुशबू घण्टों
‘क’ की सांसों में समाई रहती,,,,,,
हर रोज रख आता
वो एक गुलाब
इ के दरवाजे,,,,
और ‘इ’ निकलती इतराकर
सजाये उस गुलाब को
सुनहरे बालों के गजरे में!
आँखें बोलती थीं बहुत कुछ
पर बीच में थी एक गहन ख़ामोशी
बोलना चाहा था ने
एक रोज कुछ,
पर रख दिए ने
उसके होठों पर होंठ
एक खामोश आवाज के साथ
श्श्श्श्श्शशशशश्,,,,,,,,,
और इस तरह बनके
उन दोनों की रूँह के मिलन
गवाह,
हमेशा के लिए आ गया
इ और क के बीच श्श्श्शश्श्श्!
और दोनों में बना
एक नया रिश्ता
‘इश्क’!!!!!!!!

@@सरगम@@

Language: Hindi
289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुंदेली दोहा- छला (अंगूठी)
बुंदेली दोहा- छला (अंगूठी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
एक अलग ही दुनिया
एक अलग ही दुनिया
Sangeeta Beniwal
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
सतत् प्रयासों से करें,
सतत् प्रयासों से करें,
sushil sarna
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
बिन मौसम बरसात
बिन मौसम बरसात
लक्ष्मी सिंह
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
मेरी कलम से...
मेरी कलम से...
Anand Kumar
3327.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3327.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
हर खुशी पर फिर से पहरा हो गया।
हर खुशी पर फिर से पहरा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
संवेदना
संवेदना
Ekta chitrangini
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
आपदा से सहमा आदमी
आपदा से सहमा आदमी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रमेशराज की एक हज़ल
रमेशराज की एक हज़ल
कवि रमेशराज
चुनाव आनेवाला है
चुनाव आनेवाला है
Sanjay ' शून्य'
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
था मैं तेरी जुल्फों को संवारने की ख्वाबों में
Writer_ermkumar
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
हमारी हिन्दी ऊँच-नीच का भेदभाव नहीं करती.,
SPK Sachin Lodhi
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
अब गांव के घर भी बदल रहे है
अब गांव के घर भी बदल रहे है
पूर्वार्थ
*संगीत के क्षेत्र में रामपुर की भूमिका : नेमत खान सदारंग से
*संगीत के क्षेत्र में रामपुर की भूमिका : नेमत खान सदारंग से
Ravi Prakash
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
क्या हुआ जो तूफ़ानों ने कश्ती को तोड़ा है
Anil Mishra Prahari
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
#सुबह_की_प्रार्थना
#सुबह_की_प्रार्थना
*Author प्रणय प्रभात*
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
Loading...