Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

एक तरफ चाचा

एक तरफ चाचा
एक तरफ भतीजा।
बीच में चाटू-चाटू
क्या रहेगा नतीज़ा??
😊(ज़बरदस्त नौटंकी)😊

■प्रणय प्रभात■

1 Like · 220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"नारियल"
Dr. Kishan tandon kranti
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
किताब में किसी खुशबू सा मुझे रख लेना
किताब में किसी खुशबू सा मुझे रख लेना
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
ठंडा - वंडा,  काफ़ी - वाफी
ठंडा - वंडा, काफ़ी - वाफी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो इश्क़ कहलाता है !
वो इश्क़ कहलाता है !
Akash Yadav
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
तुम इतने आजाद हो गये हो
तुम इतने आजाद हो गये हो
नेताम आर सी
दोहा त्रयी. . .
दोहा त्रयी. . .
sushil sarna
'स्वागत प्रिये..!'
'स्वागत प्रिये..!'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Are you strong enough to cry?
Are you strong enough to cry?
पूर्वार्थ
*संस्मरण*
*संस्मरण*
Ravi Prakash
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
सीख
सीख
Adha Deshwal
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
अब तो ख़िलाफ़े ज़ुल्म ज़ुबाँ खोलिये मियाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
जानता हूं
जानता हूं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
ନବଧା ଭକ୍ତି
ନବଧା ଭକ୍ତି
Bidyadhar Mantry
मेरा बचपन
मेरा बचपन
Dr. Rajeev Jain
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
तू खुद की इतनी तौहीन ना कर...
Aarti sirsat
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...