Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2022 · 1 min read

किसी का भाई ,किसी का जान

किसी का भाई ,किसी का जान

बहनों का प्यारा हूँ ,
राज दुलारा हूँ ।
मस्ती का टोली लाई हूँ ,
किसी का भाई हूँ ।

दिलों का दिलवाले है,
मोहब्बत में आने वाले है।
पापा का शान हूँ ,
किसी का जान हूँ ।

रिमोट लड़ाई का हिरो हूँ ,
पार्टी देने मे जीरो हूँ ।
मस्ती करने में हाई हूँ ,
किसी का भाई हूँ ।

शत्रु का भक्षक हूँ ,
माता-पिता का रक्षक हूँ ।
तेरे दिल का वाण हूँ ,
किसी का जान हूँ ।

-निशांत प्रखर

Language: Hindi
4 Likes · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
*दादी की बहादुरी*
*दादी की बहादुरी*
Dushyant Kumar
मुझे भी
मुझे भी "याद" रखना,, जब लिखो "तारीफ " वफ़ा की.
Ranjeet kumar patre
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
ସାର୍ଥକ ଜୀବନ ସୁତ୍ର
Bidyadhar Mantry
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
बंद लिफाफों में न करो कैद जिन्दगी को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
राखी रे दिन आज मूं , मांगू यही मारा बीरा
gurudeenverma198
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )
DrLakshman Jha Parimal
दिल तमन्ना कोई
दिल तमन्ना कोई
Dr fauzia Naseem shad
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
प्रदूषन
प्रदूषन
Bodhisatva kastooriya
*खिलता है जब फूल तो, करता जग रंगीन (कुंडलिया)*
*खिलता है जब फूल तो, करता जग रंगीन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
2535.पूर्णिका
2535.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
दोस्ती में हर ग़म को भूल जाते हैं।
Phool gufran
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
षड्यंत्रों वाली मंशा पर वार हुआ है पहली बार।
षड्यंत्रों वाली मंशा पर वार हुआ है पहली बार।
*प्रणय प्रभात*
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
"डिजिटल दुनिया! खो गए हैं हम.. इस डिजिटल दुनिया के मोह में,
पूर्वार्थ
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुक्तक
मुक्तक
डॉक्टर रागिनी
Loading...