Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2023 · 1 min read

एक जिंदगी एक है जीवन

एक जिंदगी एक है जीवन,सब सुख दुःख का मेला है।
कभी बने खुशियों की लहरे,कभी बन जाएं दुखों का रेला है।।
जीवन के इस लंबे सफर में, क्या क्या और क्योंकर हमने झेला है।
क्योंकि जीवन के उतार चढ़ाव में,जो सब पाकर भी अकेला है।।
इस समाज और रिश्तों को तुमसे कब कब क्या लेना क्या देना है।।
यह समाज जो बंटा हुआ है, गरीबों और अमीरों के नाजुक से स्तर पर।
नहीं अछूता है कोई रिश्ता , है अमीर तो सबका लेकिन हर गरीब अकेला है।।
मैंने इस जीवन में अपने रिश्तों को, जब जब जीतने करीब से देखा है।
तब तब ही महसूस किया है की तू खड़ा बीच में सबके फिर भी अकेला है।।
कहे विजय बिजनौरी नजरिया रिश्तों का, अलग अलग और अपना है।
मेल खाए तो हर रिश्ता है अपना और मेल ना खाए तो रिश्ता सपना है।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
3 Likes · 138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
"अविस्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
अक्षय चलती लेखनी, लिखती मन की बात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
ब्रह्मेश्वर मुखिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
?????
?????
शेखर सिंह
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
क्यूँ भागती हैं औरतें
क्यूँ भागती हैं औरतें
Pratibha Pandey
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
■ कुत्ते की टेढ़ी पूंछ को सीधा  करने की कोशिश मात्र समय व श्र
■ कुत्ते की टेढ़ी पूंछ को सीधा करने की कोशिश मात्र समय व श्र
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
छप्पय छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
संत कबीर
संत कबीर
Lekh Raj Chauhan
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
Who's Abhishek yadav bojha
Who's Abhishek yadav bojha
Abhishek Yadav
*रिश्तों को जिंदा रखना है, तो संवाद जरूरी है【मुक्तक 】*
*रिश्तों को जिंदा रखना है, तो संवाद जरूरी है【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
ओझल तारे हो रहे, अभी हो रही भोर।
surenderpal vaidya
2580.पूर्णिका
2580.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-519💐
💐प्रेम कौतुक-519💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
पाला जाता घरों में, वफादार है श्वान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
छल
छल
गौरव बाबा
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
Loading...