Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढाते है

मुश्किलों से डर कर जब हम हार जाते हैं।
तभी अंतरमन में आशा की एक किरण जगाते है।
***********और यह सब तभी होता है जब हम एक
छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढ़ाते हैं
#जब भी हम भी बेसहारा सोचकर डर जाते हैं ।
तब ना जाने कितने सहारे हमारा साथ निभाते हैं।
*********** और यह सब तभी होता है जब हम एक
छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढ़ाते हैं।
#समस्याएं तो जीवन का हिस्सा है,
जब ये सहसा आ जाती हैं तब हम घबराते हैं,
पर इन्हें दूर करते-करते कुछ नए अनुभव पाते हैं।
और इस अनुभव में कुछ नए दोस्त भी मिल जाते हैं।
***********और यह सब तभी होता है जब हम एक छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढ़ाते हैं।
# जो काम मिला है उसे तो करना ही है,
चाहे रोके करें ,चाहे हस के,
पर जब हम अपने विचारों में हिम्मत लाते हैं।
तो कठिन से कठिन काम भी बड़े आसानी से कर पाते हैं। ***********और यह सब तभी होता है जब हम एक,
छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढ़ाते हैं
#कहते हैं ईश्वर जब सारे रास्ते बंद कर देता है,
तो कोई ना कोई एक रास्ता जरूर खोलता है ,
तो बस जब भी हम मुसीबत में आते हैं ,
तो पूर्ण धैर्य के साथ हम वह रास्ता खोज पाते हैं ।
***********और यह सब तभी होता है जब हम एक
छोटी सी मुस्कान के साथ आगे कदम बढ़ाते हैं।
” करूणा “

Language: Hindi
29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*प्रणय प्रभात*
क्षणिका ...
क्षणिका ...
sushil sarna
*अनार*
*अनार*
Ravi Prakash
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
बदली बारिश बुंद से
बदली बारिश बुंद से
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्यारा भारत देश है
प्यारा भारत देश है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
गंगनाँगना छंद विधान ( सउदाहरण )
गंगनाँगना छंद विधान ( सउदाहरण )
Subhash Singhai
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
हम न रोएंगे अब किसी के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम जो आसमान से
तुम जो आसमान से
SHAMA PARVEEN
निगाहें
निगाहें
Sunanda Chaudhary
जो रोज समय पर उगता है
जो रोज समय पर उगता है
Shweta Soni
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
घर की गृहलक्ष्मी जो गृहणी होती है,
घर की गृहलक्ष्मी जो गृहणी होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
*जीवन्त*
*जीवन्त*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
जो प्राप्त है वो पर्याप्त है
जो प्राप्त है वो पर्याप्त है
Sonam Puneet Dubey
शैक्षिक विकास
शैक्षिक विकास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आपको याद भी
आपको याद भी
Dr fauzia Naseem shad
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
जैसे
जैसे
Dr.Rashmi Mishra
वो लड़का
वो लड़का
bhandari lokesh
2600.पूर्णिका
2600.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अबकी बार निपटा दो,
अबकी बार निपटा दो,
शेखर सिंह
मुझे किराए का ही समझो,
मुझे किराए का ही समझो,
Sanjay ' शून्य'
Loading...