Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

!! एक चिरईया‌ !!

दूर देश से एक चिरईया
मेरे छत्त पर आती है
आँखों में पानी भर-भर कर
अपनी व्यथा सुनाती है

पटे पड़े हैं ताल तलैया
कैसे प्यास बुझाऊँ मैं
छोटे-छोटे पंख हमारे
कहाँ-कहाँ तक जाऊं मैं

काट दिये सब बाग़ बगीचे
खोता कहाँ लगाऊँ मैं
ऊंचे-ऊंचे महल अटारी
कैसे उसमें जाऊँ मैं

छप्पर वाले घर फिर से
बनवा लो मेरे भैय्या जी
बच्चों संग मैं रहा करूँगी
प्यारे-प्यारे भैय्या जी

सांवा,चावल,चेना,मडुवा
जो कुछ भी रखवा देना
सुबह, सबेरे थोड़ा सा
टब में पानी भरवा देना

फुदक फुदक कर मौज़ करेंगे
“चुन्नू” प्यारे बच्चे मेरे भी
अच्छे दिन सबके आयेंगे
छटेंगे स्याह घनेरे भी —

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ (उ.प्र.)

286 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ #मुक्तक
■ #मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
चलो क्षण भर भुला जग को, हरी इस घास में बैठें।
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक तूही ममतामई
एक तूही ममतामई
Basant Bhagawan Roy
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
महान कथाकार प्रेमचन्द की प्रगतिशीलता खण्डित थी, ’बड़े घर की
Dr MusafiR BaithA
राम आ गए
राम आ गए
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
कोठरी
कोठरी
Punam Pande
दोहे- अनुराग
दोहे- अनुराग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
यूँ तो समन्दर में कभी गोते लगाया करते थे हम
The_dk_poetry
प्यार
प्यार
Satish Srijan
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
"इशारे" कविता
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अंकुर
अंकुर
manisha
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
"ये कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-294💐
💐प्रेम कौतुक-294💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
विषम परिस्थियां
विषम परिस्थियां
Dr fauzia Naseem shad
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
2897.*पूर्णिका*
2897.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
RAKSHA BANDHAN
RAKSHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
दोहा - शीत
दोहा - शीत
sushil sarna
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Loading...