Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Feb 2024 · 1 min read

एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी…

एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी…
रोज रात को सोने से पहले,भर देता हूं उसमें
दिन भर का विषाद, किसी के ताने, किसी के उलाहने
किसी के लिए जलन,और किसी के प्रति गुस्सा
सब ही समाहित हो जाते हैं
उस गुल्लक में,और यूं रीत हो जाता हूं मैं
खो जाता हूं, सुंदर सपनों में, जब भी दिल भारी होता है
उडे़ल कर सब बोझ
उस गुल्लक में , हल्का हो जाता हूं मैं
चाबी खो दी है उसकी मैंने ,तोड़ने उसे नहीं कभी वाला हूँ मैं

एक और गुल्लक भी है मेरे पास,उसमें जमा करता हूं मैं दुआएं
रोज सुबह उसमें से कुछ दुआएं,निकालता हूं..
दिन भर खर्चता हूं,फिर डरता हूं कि कहीं
गुल्लक रीत न जाए।
भरता हूं दिन प्रतिदिन उसे,लोगों की दुआओं से
कि आड़े वक्त यही तो कामआएंगी।
आओ कुछ दुआएँ इकट्ठी करते हैं…..

1 Like · 44 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
******** रुख्सार से यूँ न खेला करे ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सांझा चूल्हा4
सांझा चूल्हा4
umesh mehra
नौ वर्ष(नव वर्ष)
नौ वर्ष(नव वर्ष)
Satish Srijan
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
बेचारे हाथी दादा (बाल कविता)
Ravi Prakash
धर्मग्रंथों की समीक्षा
धर्मग्रंथों की समीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
भूख
भूख
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
नई तरह का कारोबार है ये
नई तरह का कारोबार है ये
shabina. Naaz
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मईया कि महिमा
मईया कि महिमा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जनता को तोडती नही है
जनता को तोडती नही है
Dr. Mulla Adam Ali
■सस्ता उपाय■
■सस्ता उपाय■
*Author प्रणय प्रभात*
2981.*पूर्णिका*
2981.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारी है जुस्तजू
तुम्हारी है जुस्तजू
Surinder blackpen
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
जवाबदारी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
मैं भी क्यों रखूं मतलब उनसे
gurudeenverma198
"द्रौपदी का चीरहरण"
Ekta chitrangini
"तरक्कियों की दौड़ में उसी का जोर चल गया,
शेखर सिंह
"मन्नत"
Dr. Kishan tandon kranti
💐अज्ञात के प्रति-61💐
💐अज्ञात के प्रति-61💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
हिटलर ने भी माना सुभाष को महान
कवि रमेशराज
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
Loading...