Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

एक काफ़िर की दुआ

एक काफ़िर की दुआ
कबूल कर,ऐ ख़ुदा
तू रहीमो-करीम है
बख़्श दे सबकी खता…
(१)
हर बीमार शख़्स की
सेहत दुरुस्त कर
हर कमज़ोर शख़्स को
तौफ़ीक़ कर अदा…
(२)
महरूमों का हाल
देखा नहीं जाता
सुनी नहीं जाती
मजलूमों की सदा…
(३)
अपनी खुदगर्ज़ी में
बिल्कुल अंधे होकर
अब तक हमने की है
तेरी कुदरत से दगा…
‌ (४)
माना कि हम लोग
लायक़ नहीं इसके
फ़िर भी कायम रहे
हमसे तेरी वफ़ा…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#फनकार #गीत #humanity
#love #life #bollywood
#prayer #मानवता #फकीर
#गीतकार #कवि #lyricist

Language: Hindi
1 Like · 197 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
चाहत में उसकी राह में यूं ही खड़े रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
दुनिया तेज़ चली या मुझमे ही कम रफ़्तार थी,
गुप्तरत्न
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
3173.*पूर्णिका*
3173.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
ये जुल्म नहीं तू सहनकर
gurudeenverma198
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
हर तीखे मोड़ पर मन में एक सुगबुगाहट सी होती है। न जाने क्यों
Guru Mishra
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
दर्पण जब भी देखती खो जाती हूँ मैं।
लक्ष्मी सिंह
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
50….behr-e-hindi Mutqaarib musaddas mahzuuf
sushil yadav
विनय
विनय
Kanchan Khanna
स्त्रियां, स्त्रियों को डस लेती हैं
स्त्रियां, स्त्रियों को डस लेती हैं
पूर्वार्थ
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
विषम परिस्थितियों से डरना नहीं,
Trishika S Dhara
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Dheerja Sharma
लाल बहादुर शास्त्री
लाल बहादुर शास्त्री
Kavita Chouhan
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
SURYA PRAKASH SHARMA
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जला दो दीपक कर दो रौशनी
जला दो दीपक कर दो रौशनी
Sandeep Kumar
संकट..
संकट..
Sushmita Singh
#धर्म
#धर्म
*प्रणय प्रभात*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
*राम स्वयं राष्ट्र हैं*
Sanjay ' शून्य'
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
मैं दौड़ता रहा तमाम उम्र
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
22)”शुभ नवरात्रि”
22)”शुभ नवरात्रि”
Sapna Arora
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...