Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

एक कहानी है, जो अधूरी है

एक कहानी है, जो अधूरी है
एक अधूरापन है जिसमें मैं हूँ
एक मैं हूं जो बिखर चुका हूं
एक बिखराव है जिसमें कई बाल्टी आंसू हैं
एक आंसू है जो आंख से गिरने को बेताब है
एक बेताबी है जो हर शाम में है
एक शाम है जो गुजरती है इंतजार में
एक इंतजार है जिसमें सिर्फ तुम हो
एक तुम हो जो जा चुकी हो..💔💔
~मृगतृष्णा में विमल

468 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
छल
छल
Aman Kumar Holy
** जिंदगी  मे नहीं शिकायत है **
** जिंदगी मे नहीं शिकायत है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कामना के प्रिज़्म
कामना के प्रिज़्म
Davina Amar Thakral
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
अब उनकी आँखों में वो बात कहाँ,
Shreedhar
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
याराना
याराना
Skanda Joshi
ना मसले अदा के होते हैं
ना मसले अदा के होते हैं
Phool gufran
खूब रोता मन
खूब रोता मन
Dr. Sunita Singh
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
ह्रदय की स्थिति की
ह्रदय की स्थिति की
Dr fauzia Naseem shad
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—1.
रमेशराज की विरोधरस की मुक्तछंद कविताएँ—1.
कवि रमेशराज
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
हिन्दू मुस्लिम करता फिर रहा,अब तू क्यों गलियारे में।
शायर देव मेहरानियां
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
3418⚘ *पूर्णिका* ⚘
3418⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
एक दिन मजदूरी को, देते हो खैरात।
Manoj Mahato
■ क़ायदे की बात...
■ क़ायदे की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
करम
करम
Fuzail Sardhanvi
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
Loading...