Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 May 2024 · 2 min read

एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो

एक कहानी सुनाए बड़ी जोर से आई है।सुनोगे ना चलो सुन ही लो

कहते है घर मे सबसे छोटा सबसे लाडला होता है सबसे ज्यादा मोहब्बत उसे ही मिलती हैं। मगर हर बार कहावत सही नहीं होती कभी कभी कहावत उल्टी भी हो जाती है एक ऐसे ही इंसान की कहानी है। जो हर बार तरसा मोहब्बत के लिए मोहब्बत मिली और शायद मिल भी रही मगर एक सही कीमत चुका कर बचपन से यही होता आया है बड़े सब अपने आप में बिजी रहते थे छोटे थे तो सबको नाच कर इंप्रेस करते अब एक डांस रोज रोज कोन देखने लगा तो फिर वही अकेलापन अरे ऐसा नहीं घर वाले पसंद नहीं करते मुझे करते है ना बहुत बस तू कर तू कर के हत्थे चढ़ गया मेरा बचपन एक दूसरे के हवाले करके सब अपनी मस्ती में खो गए अम्मा हमारी इतने बड़े घर की साफ सफाई रोटी शोटी ओर भैंसो का चारा बाकी बचे हुए टाइम मे बच्चो को सुनना गाने नही गालियां यार थका हुआ बंदा करेगा भी तो क्या पापा जी हमारे क्या सबके ही थोड़े टफ होते है डर सा लगता है कुछ कहने से कुछ मांगने से और सबसे छोटे हो तो बस खेल खत्म

मगर वो दिन बहुत खास था जब पापा ने पास बिठाकर शायद पहली बार बड़े प्यार से चूमा था मुझे गोद मे लिटाकर बड़ा प्यार किया था लगा था ये दिन कभी खत्म न हो बस ऐसे पापा की गोद मे उम्र तमाम हो जाए तब में पांचवी क्लास मे था इतनी समझ थी भी नहीं भी मगर वो दिन याद है मुझे क्योंकि फिर जिंदगी ने मौका नहीं दिया खुश होने का अपने बारे मे कुछ कहूं तो बस इतना ही

यू तो जिंदगी से कोई गिला नही मुझे
बस जो चाहा दिल से वो मिला नही मुझे 😭😭😭😭😭😭😭😭😭😭😭😭😭

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
सारी उम्र गुजर गई है
सारी उम्र गुजर गई है
VINOD CHAUHAN
आप या तुम
आप या तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ संडे इज़ द फंडे...😊
■ संडे इज़ द फंडे...😊
*प्रणय प्रभात*
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अंतरात्मा की आवाज
अंतरात्मा की आवाज
SURYA PRAKASH SHARMA
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
महानगर की जिंदगी और प्राकृतिक परिवेश
कार्तिक नितिन शर्मा
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
कविवर शिव कुमार चंदन
कविवर शिव कुमार चंदन
Ravi Prakash
यह कौन सा विधान हैं?
यह कौन सा विधान हैं?
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अभिसप्त गधा
अभिसप्त गधा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
चलना हमारा काम है
चलना हमारा काम है
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Mahesh Kumawat
"एक ही जीवन में
पूर्वार्थ
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
भारत में भीख मांगते हाथों की ۔۔۔۔۔
Dr fauzia Naseem shad
मनुष्य जीवन है अवसर,
मनुष्य जीवन है अवसर,
Ashwini Jha
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
ପ୍ରାୟଶ୍ଚିତ
Bidyadhar Mantry
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
हरियर जिनगी म सजगे पियर रंग
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
समझ
समझ
Shyam Sundar Subramanian
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
इस दुनिया में कोई भी मजबूर नहीं होता बस अपने आदतों से बाज़ आ
Rj Anand Prajapati
ताल्लुक अगर हो तो रूह
ताल्लुक अगर हो तो रूह
Vishal babu (vishu)
भगवा रंग में रंगें सभी,
भगवा रंग में रंगें सभी,
Neelam Sharma
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
Loading...