Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

एक अरसा

चलुं खुद से मिल आऊँ ,
खुद से मिले एक अरसा हो गया है,

आखोँ की नमीं नही जाती,
गमो मे कमी नही आती,
इन्हे खुशियाँ देखे एक अरसा हो गया है
खुद से मिले__________।

दिमाग मे मची एक कलकल है,
सीने मे यादो का गहरा दलदल है,
दलदल को खड़े एक अरसा हो गया है
खुद से मिले___________।

साझँ की सुहानी बेला है,
फिर भी मन कितना अकेला है,
सुबह का मेला देखे एक अरसा हो गया है
खुद से मिले _________।

ख्वाहिशो पर बिछी पड़ी धुल है,
सपनो पर चुभे हुए कई शुल है,
जख्मो को हरे हुए एक अरसा हो गया है
खुद से मिले__________।

चलुं खुद से मिल आऊँ,
खुद से मिले एक अरसा हो गया है।

Language: Hindi
334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
स्वयं पर नियंत्रण कर विजय प्राप्त करने वाला व्यक्ति उस व्यक्
Paras Nath Jha
*सुनिए बारिश का मधुर, बिखर रहा संगीत (कुंडलिया)*
*सुनिए बारिश का मधुर, बिखर रहा संगीत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब जब जिंदगी में  अंधेरे आते हैं,
जब जब जिंदगी में अंधेरे आते हैं,
Dr.S.P. Gautam
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
दान
दान
Neeraj Agarwal
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
गीत.......✍️
गीत.......✍️
SZUBAIR KHAN KHAN
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
2997.*पूर्णिका*
2997.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मूर्दन के गांव
मूर्दन के गांव
Shekhar Chandra Mitra
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
कोरोना काल मौत का द्वार
कोरोना काल मौत का द्वार
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
आनंद
आनंद
RAKESH RAKESH
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
कवि रमेशराज
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
*मुश्किल है इश्क़ का सफर*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
शराब हो या इश्क़ हो बहकाना काम है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वंसत पंचमी
वंसत पंचमी
Raju Gajbhiye
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"तुलना"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...