Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2017 · 2 min read

ऊँच-नीच के कपाट ।

अभी तो ऊँच-नीच के कपाट हैं ।
कहीं हैं ठाटबाट ,कहीं टाट हैं।
जातिवाद की भी हैं पहेलियाँ।
चीखतीं हैं घर में सुप्त बेटियाँ।
मनमय मयूर बन मदांध फूलता।
जग-द्वंद का कुरक्ष रक्त सूँघता,
फिर कहाँ नरक को त्याग पाए हम ।
पीर की विभीषिका के पाए हम।
स्वतंत्रता निज देश में कहाँ रही ।
भ्रष्टता की दिख रही है कहकही,
औ दानवी दहेज के लिवास है।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं ।

मुक्तपथ में ही तो राष्ट्रबोध है।
विज्ञता के मार्ग में भी शोध है ।
देवता न बाँटें तेरी वेदना ।
सद् कर्म का प्रकाश है सुचेतना ।
अब तोड दो किरीट बंधराज का ।
क्या करोगे संक्रमण की खाज का ।
तरुण है सुप्त औ ज्वलन कुकोप में।
कु जंग लग गई सजगता तोप में ।
बालकों के शीष श्रम की गाज है ।
बिना पढों का अश्रुमय समाज है ।
हम अभी भी दुख औ आत्म ह्रास हैं ।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं ।

काटते अहं के रक्षदल का फण ।
पूजते हैं प्रेमी देव के चरण ।
पर हम्हीं नितांत क्रुद्ध -भीर बन ।
लडते नित ही श्वान-सम अधीर बन।
सोच लो कहाँ तुम्हारा राज है ।
मन के वशीभूत, सारा साज है ।
गह सद् विचार,बन न व्यर्थ खंडहर ।
दासता का बोझा खंड-खंड कर।
तभी तो छटेगी तम की रात है ।
चेतना की लौ जले तो बात है ।
वरना हम भी रक्ष दल कु ग्रास हैं ।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं ।

निज देश भाल छू रहा विकास का ।
पर नित्य तीव्र-धूम्र छोड ह्रास का ।
फिर भी हम अचेत बन के छाँटते ।
सु देवरूपी वृक्षों को काटते।
दे रहे जो सबको प्राणवायु हैं ।
खा रहे हैं मैल ,जन की आयु हैं।
सु संतुलन बिगाड़ते है हम स्वयं ।
पर दोष दे रहे कि राज बेशरम ।
ऩ कर रहा है कुछ बहुत उदास है।
इसलिए ही जन में रोग-फाँस है ।
लग रहा है अब भी हम निरास हैं।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं।
…………………………………….
बृजेश कुमार नायक
25-06-2017

●2013 में जे एम डी पब्लिकेशन से प्रकाशित मेरी कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह की रचना।
●2020 में उक्त कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित हुआ।
●उक्त रचना को साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।
● “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Likes · 1 Comment · 3765 Views
You may also like:
#एउटा_पत्रकारको_परिचय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रमेश छंद "नन्ही गौरैया"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
सांप्रदायिकता का ज़हर
Shekhar Chandra Mitra
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
मैं बुद्ध के विरुद्ध न ही....
Satish Srijan
Writing Challenge- मुस्कान (Smile)
Sahityapedia
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
मोहब्बत के सिवा मैं कुछ ना चाहता हूं।
Taj Mohammad
सबको नित उलझाये रहता।।
Rambali Mishra
नफरत के कांटे
shabina. Naaz
फूली सरसों…
Rekha Drolia
तिरंगा लगाना तो सीखो
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गर्दिश -ए- दौराँ
Shyam Sundar Subramanian
*बच्चे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
षडयंत्रों की कमी नहीं है
सूर्यकांत द्विवेदी
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
वो बचपन की बातें
Shyam Singh Lodhi (LR)
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
💥प्रेम की राह पर-69💥
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राज
Alok Saxena
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
हिंदी दोहा बिषय:- बेतवा (दोहाकार-राजीव नामदेव 'राना लिधौरी')
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ज़िंदगी देख मेरे हाथों में कुछ नहीं आया
Dr fauzia Naseem shad
यह तो बाद में ही मालूम होगा
gurudeenverma198
घिसी चप्पल
N.ksahu0007@writer
■ लघुकथा / अलार्म
*Author प्रणय प्रभात*
सृष्टि रचयिता यंत्र अभियंता हो आप
Chaudhary Sonal
✍️घुसमट✍️
'अशांत' शेखर
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...