Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2017 · 2 min read

ऊँच-नीच के कपाट ।

अभी तो ऊँच-नीच के कपाट हैं ।
कहीं हैं ठाटबाट ,कहीं टाट हैं।
जातिवाद की भी हैं पहेलियाँ।
चीखतीं हैं घर में सुप्त बेटियाँ।
मनमय मयूर बन मदांध फूलता।
जग-द्वंद का कुरक्ष रक्त सूँघता,
फिर कहाँ नरक को त्याग पाए हम ।
पीर की विभीषिका के पाए हम।
स्वतंत्रता निज देश में कहाँ रही ।
भ्रष्टता की दिख रही है कहकही,
औ दानवी दहेज के लिवास है।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं ।

मुक्तपथ में ही तो राष्ट्रबोध है।
विज्ञता के मार्ग में भी शोध है ।
देवता न बाँटें तेरी वेदना ।
सद् कर्म का प्रकाश है सुचेतना ।
अब तोड दो किरीट बंधराज का ।
क्या करोगे संक्रमण की खाज का ।
तरुण है सुप्त औ ज्वलन कुकोप में।
कु जंग लग गई सजगता तोप में ।
बालकों के शीष श्रम की गाज है ।
बिना पढों का अश्रुमय समाज है ।
हम अभी भी दुख औ आत्म ह्रास हैं ।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं ।

काटते अहं के रक्षदल का फण ।
पूजते हैं प्रेमी देव के चरण ।
पर हम्हीं नितांत क्रुद्ध -भीर बन ।
लडते नित ही श्वान-सम अधीर बन।
सोच लो कहाँ तुम्हारा राज है ।
मन के वशीभूत, सारा साज है ।
गह सद् विचार,बन न व्यर्थ खंडहर ।
दासता का बोझा खंड-खंड कर।
तभी तो छटेगी तम की रात है ।
चेतना की लौ जले तो बात है ।
वरना हम भी रक्ष दल कु ग्रास हैं ।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं ।

निज देश भाल छू रहा विकास का ।
पर नित्य तीव्र-धूम्र छोड ह्रास का ।
फिर भी हम अचेत बन के छाँटते ।
सु देवरूपी वृक्षों को काटते।
दे रहे जो सबको प्राणवायु हैं ।
खा रहे हैं मैल ,जन की आयु हैं।
सु संतुलन बिगाड़ते है हम स्वयं ।
पर दोष दे रहे कि राज बेशरम ।
ऩ कर रहा है कुछ बहुत उदास है।
इसलिए ही जन में रोग-फाँस है ।
लग रहा है अब भी हम निरास हैं।
अधीनता के ही तो आस-पास हैं।
…………………………………….
बृजेश कुमार नायक
25-06-2017

●2013 में जे एम डी पब्लिकेशन से प्रकाशित मेरी कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह की रचना।
●2020 में उक्त कृति “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित हुआ।
●उक्त रचना को साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से प्रकाशित “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।
● “जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 3945 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
3365.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3365.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
पूर्वार्थ
A Departed Soul Can Never Come Again
A Departed Soul Can Never Come Again
Manisha Manjari
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गर्मी आई
गर्मी आई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"स्वभाव"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्दी
वर्दी
Satish Srijan
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
मानव तेरी जय
मानव तेरी जय
Sandeep Pande
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
वक्त हालत कुछ भी ठीक नहीं है अभी।
Manoj Mahato
अब महान हो गए
अब महान हो गए
विक्रम कुमार
Asman se khab hmare the,
Asman se khab hmare the,
Sakshi Tripathi
सज़ल
सज़ल
Mahendra Narayan
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस वेबफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
इक चाँद नज़र आया जब रात ने ली करवट
Sarfaraz Ahmed Aasee
Hard work is most important in your dream way
Hard work is most important in your dream way
Neeleshkumar Gupt
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
Er. Sanjay Shrivastava
मॉर्निंग वॉक
मॉर्निंग वॉक
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नए साल की मुबारक
नए साल की मुबारक
भरत कुमार सोलंकी
ज़िंदगी को दर्द
ज़िंदगी को दर्द
Dr fauzia Naseem shad
Loading...