Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Dec 2022 · 1 min read

ऊंच-नीच:एक मानसिक रोग

अपने को ऊंच समझने का मतलब ही दूसरों को नीच समझना होता है। ऐसी मानसिकता वाले लोग गंभीर रूप से बीमार हैं। उन्हें तुरंत इलाज की ज़रूरत है।
#दलित #पिछड़ा #बहुजन #चेतना
#buddha #kabir #आदिवासी
#Casteism #ahimsa #विद्रोही
#JNU #मनुवाद #रक्तहीन_क्रांति
#सामंतवाद #पितृसत्ता #पोंगापंथ

Language: Hindi
487 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ऐ जिंदगी
ऐ जिंदगी
अनिल "आदर्श"
दोहा - चरित्र
दोहा - चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
उसकी वो बातें बेहद याद आती है
Rekha khichi
उम्र भर का सफ़र ज़रूर तय करुंगा,
उम्र भर का सफ़र ज़रूर तय करुंगा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुक्तक
मुक्तक
Sonam Puneet Dubey
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी हवाई जहाज
जिंदगी हवाई जहाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
माँ तेरे दर्शन की अँखिया ये प्यासी है
Basant Bhagawan Roy
|| तेवरी ||
|| तेवरी ||
कवि रमेशराज
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
आया दिन मतदान का, छोड़ो सारे काम
Dr Archana Gupta
3636.💐 *पूर्णिका* 💐
3636.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
कितना और सहे नारी ?
कितना और सहे नारी ?
Mukta Rashmi
प्रेम लौटता है धीमे से
प्रेम लौटता है धीमे से
Surinder blackpen
चुनावी घनाक्षरी
चुनावी घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
Kuldeep mishra (KD)
ख़बर ही नहीं
ख़बर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
डिजिटल भारत
डिजिटल भारत
Satish Srijan
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
तुम्हे तो अभी घर का रिवाज भी तो निभाना है
शेखर सिंह
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Two scarred souls and the seashore, was it a glorious beginning?
Manisha Manjari
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
"अश्कों की स्याही"
Dr. Kishan tandon kranti
विभेद दें।
विभेद दें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मल्हारी गीत
मल्हारी गीत "बरसी बदरी मेघा गरजे खुश हो गये किसान।
अटल मुरादाबादी(ओज व व्यंग्य )
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...